DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

टुसू पर्व पर विधि-विधान से पूजा अर्चना

टुसू पर्व झारखंडी संस्कृति के स्वभिमान का प्रतीक है। यह पर्व झारखंड की संस्कृति का धरोहर है। यह बातें कुरमाली भाषा परिषद के अध्यक्ष राजाराम महतो ने मंगलवार को टुसू पर्व की पूर्व संध्या पर आयोजित टुसू महोत्सव में कही। उन्होंने विधि-विधान से टुसू पर्व के मौके पर पूजा अर्चना की। इसके बाद ढोल बजा कर थिरकने लगे। इस मौके पर डॉ एचएन सिंह, ब्रजेन्द्र नाथ महतो, सत्यनारायण महतो, सहोदर महतो, सृष्टिधर महतो, आशुतोष महतो, इंद्र मोहन महतो, संजीव महतो, श्रवण कुमार महतो, सुनील महतो, धीरा महतो, दिलीप साहू, दिलीप तेतरवे, रामदेव सिंह, डॉ पंचानन महतो, अजीत वर्मा, जानकी देवी, डॉ वृंदावन महतो शामिल थे।ड्ढr हुंडरू फॉल में टुसू मेला कलड्ढr अनगड़ा प्रखंड के हुंडरू फॉल में मकर संक्रांति के अवसर पर 15 जनवरी को टुसू मेला का आयोजन किया गया है। आदिवासी जन परिषद के तत्वावधान में पुरस्कार वितरण करने का निर्णय लिया गया है। सर्वश्रेष्ठ टुसू लानेवाले प्रतिभागी को 1001 रुपये नकद, द्वितीय पुरस्कार 701 रुपये और तृतीय पुरस्कार 501 रुपये दिये जायेंगे। समारोह के मुख्य अतिथि पूर्व विधान पार्षद छत्रपति शाही मुंडा होंगे। इनके अलावा आदिवासी जन परिषद के अध्यक्ष मोती कच्छप, महासचिव प्रेमशाही मुंडा, जीतनाथ बेदिया, पंचम बेदिया, बुधराम बेदिया, भुनेश्वर बेदिया, बासुदेव बेदिया, कुवंर सिंह मुंडा सहित कई लोग उपस्थित रहेंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: टुसू पर्व पर विधि-विधान से पूजा अर्चना