DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सत्यम परिसरों पर छापेमारी

ेन्द्र सरकार ने सत्यम घोटाले पर कड़ा रुख अख्तियार करते हुए इसकी जांच का जिम्मा गंभीर जालसाजी जांच विभाग (एसएफआईओ) को सौंप दिया है। केन्द्रीय कंपनी मामलों के मंत्री प्रेम चंद्र गुप्ता ने सोमवार को बताया कि एसएफआईओ को तीन महीने के अंदर रिपोर्ट देने को कहा गया है। सत्यम के खाते की जांच से संबंधित रािस्ट्रार ऑफ कंपनीज की प्रारंभिक रिपोर्ट मिलने के तत्काल बाद सरकार ने यह एलान किया।ड्ढr ड्ढr प्रेम चंद गुप्ता ने बताया कि एसएफआईएल सत्यम घोटोले में पीडब्ल्यूसी की भूमिका की जांच भी करेगा। इस बीच आंध्र प्रदेश पुलिस की अपराध शाखा ने हैदराबाद में सत्यम और उसकी ऑडिट कंपनी प्राइज वाटर हाउस कूपर (पीडब्ल्यूसी) के परिसरों में छापा मारा। इस दौरान कंपनी के एक ऑडिटर रामकृष्णा को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। सत्यम के गिरफ्तार मुख्य वित्त अधिकारी वी श्रीनिवास के घर की तलाशी भी ली गई। उधर प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने सत्यम को संकट से उबारने के लिए बेल आउट पैकेा की अटकलों के बीच उच्चस्तरीय बैठक कर स्थिति की समीक्षा की। बैठक में गृह मंत्री पी चिदंबरम और विदेश मंत्री प्रणव मुखर्जी भी शामिल हुए। वहीं विश्व बैंक ने सत्यम को तगड़ा झटका देते हुए उसे दिये गये सार प्रोजेक्ट वापस लेकर टाटा कंस्टलेंसी को साँैप दी है। भारतीय रिजर्व बैंक भी सत्यम कम्प्यूटर सर्विसेस लिमिटेड के साथ बैंकों के लेन-देन की जांच कर रहा है। रिजर्व बैंक के सूत्रों ने बताया कि यह जांच मुख्य रूप से सत्यम की सहयोगी कंपनियों में बैंकों द्वारा रियलटी के क्षेत्र में दिए गए ऋणों की हो रही है। जांच अगले दो-तीन सप्ताहों में पूरी हो जाएगी। पूछताछ में श्रीनिवास ने घोटाले में संलिप्तता से साफ इंकार किया और कहा कि उसने जो भी किया वह रामलिंगा राजू और उनके भाई रामा राजू के कहने पर किया। लेकिन पुलिस को तलाशी के दौरान पता चला कि श्रीनिवास और उसके परिजनों के नाम शहर के बाहरी हिस्से में 70 एकड़ जमीन है।ड्ढr ड्ढr पुलिस को तलाशी में एक लैपटॉप बरामद हुआ है जिससे कई अहम सुराग हाथ लगने की उम्मीद है। लताशी में सावधि जमा की कई रसीदें, बैंक पास बुक, क्रेडिट कार्ड, शेयर दस्तावेज और आयकर भुगतान की रसीदें भी बरामद की गई हैं। दूसरी ओर सत्यम कंपनी में घोटाले का सवाल संसद में वर्ष 2003 में सबसे पहले उठाने वाले भारतीय रिपब्लिकन पार्टी के सांसद रामदास अठावले ने सोमवार को कहा कि इस मामले की सीबीआई जांच होनी चाहिए। आठवले ने कहा कि उन्होंने इस संबंध में तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को पत्र भी लिखा था। लेकिन राजग सरकार ने सत्यम कंपनी और आंध्र प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू के बीच नजदीकियों की वजह से इस घोटाले पर पर्दा डाला। पिछले सप्ताह सत्यम कम्प्यूटर के संस्थापक एवं अध्यक्ष बी रामालिंग राजू द्वारा तकरीबन 7800 करोड़ रुपए की हेराफेरी स्वीकारने के बाद कंपनी गहरे संकट में फंस गई थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सत्यम परिसरों पर छापेमारी