DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दो पूर्व मंत्रियों ने निकाली भड़ास

रवीन्द्र भवन में जयंती सर गणेशदत्त की लेकिन इसी के बहाने वक्ताओं ने नीतीश सरकार पर जमकर निशाना साधा। समर्थकों ने जहां पूर्व स्वास्थ्य मंत्री चन्द्रमोहन राय व पूर्व परिवहन मंत्री अजीत कुमार के समर्थन में नारबाजी की वहीं मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी के खिलाफ मुर्दाबाद के नार भी लगे। हालांकि मंच पर आसीन दोनों मंत्री बार-बार अपने समर्थकों को नारबाजी करने से मना कर रहे थे।ड्ढr ड्ढr समारोह में पूर्व स्वास्थ्य मंत्री चन्द्रमोहन राय ने कहा कि सर गणेशदत्त ने बिना जात -पात के शिक्षा में क्रांति लाए थे लेकिन उनका सम्मान नहीं किया जा रहा है क्योंकि वे एक जाति विशेष से आते हैं। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राजधानी में सर गणेश दत्त की मूर्ति लगाने एवं पटना विश्वविद्यालय का नामकरण उनके नाम पर करने की घोषणा की थी लेकिन यह घोषणा आज तक पूरा नहीं हुआ। इस सभा के माध्यम हम सरकार को चेतावनी देना चाहते हैं कि अब यह समाज सर गणेश दत्त की उपेक्षा को बर्दाश्त नहीं करगा। अगर हमार सम्मान को अगर ठेस पहुंची तो लड़ाई का बिगुल फूंका जाएगा। रल मंत्री लालू प्रसाद यादव इसका परिणाम भुगत चुके हैं। सरकार गणेशदत्त की मूर्ति लगाने के लिए जमीन उपलब्ध कराए समाज के लोग वहां मूर्ति स्थापित करंगे। पूर्व परिवहन मंत्री अजीत कुमार ने कहा कि आजादी से लेकर आज तक भूमिहार समाज ने संघर्ष किया। इस संघर्ष का ही परिणाम है कि नीतीश कुमार मुख्यमंत्री की कुर्सी पर आसीन हुए लेकिन आज इस समाज की उपेक्षा हो रही है। नीतीश सरकार ने सर गणेश दत्त के सम्मान में विश्वविद्यालय बनाने व प्रतिमा लगाने सहित कई घोषणाएं की थी लेकिन इसे अब तक लागू नहीं किया गया है। लेकिन यह समाज अपने संघर्ष को जारी रखेगा। समारोह का उद्घाटन स्वामी हरिनारायणानंद महाराज ने किया। इस अवसर पर पूर्व राज्यपाल भाई महावीर, भाजपा नेता सुधीर शर्मा ने भी अपने विचार व्यक्त किए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: दो पूर्व मंत्रियों ने निकाली भड़ास