अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शिक्षकों ने कुलपति का घेराव किया

शिक्षकों के प्रमोशन का मामला अब पूरी तरह से गरमा गया है। पटना विश्वविद्यालय के 2003 बैच के शिक्षकों ने प्रमोशन को लेकर मंगलवार को कुलपति डा. श्याम लाल का घेराव विवि मुख्यालय में किया। पूटा के नेतृत्व में शिक्षकों ने कुलपति से कहा कि राज्य सरकार के पत्र में कहीं भी 2003 बैच के शिक्षकों को जांच के दायर में नहीं रखा गया है। शिक्षकों का कहना था कि विश्वविद्यालय प्रशासन अपनी मर्जी से सिर्फ 2003 में बहाल शिक्षकों के प्रमोशन को जानबूझकर रोकना चाहती है। पटना विवि में कई ऐसे शिक्षकों पर समय से पहले पदोन्नति का मामला चल रहा है।ड्ढr ड्ढr सुप्रीम कोर्ट द्वारा 20 अक्टूबर को इनके प्रमोशन को रोकने का आदेश भी दिया है। वैसी स्थिति में भी विवि प्रशासन द्वारा 2003 बैच के शिक्षकों को प्रमोशन नहीं दिया जाना गलत है। शिक्षकों ने कंडीशनल प्रमोशन की मांग कुलपति से की। कुलपति ने शिक्षकों के साथ वार्ता कर मामले को शांत करने की कोशिश की । उन्होंने कहा कि मैं सभी को प्रमोशन देना चाहता हूं, पर सरकार के नियम के विरुद्ध काम नहीं कर सकता। इससे गुस्साए शिक्षकों ने कुलपति से सूचना के अधिकार के तहत प्रश्न किया कि किन-किन शिक्षकों का प्रमोशन किया जा रहा है ? ऐसे शिक्षकों की सूची उपलब्ध कराएं जिनका प्रमोशन किया जाना है? पूटा का प्रदर्शन मई को होना था, पर उस दिन कॉलेज बंद होने की वजह से शिक्षकों ने मंगलवार को ही मुख्यालय में हल्ला बोल दिया। पूटा के महासचिव डा. रणधीर कुमार ने सभी शिक्षकों के प्रमोशन की मांग की है। प्रदर्शन करने वालों में डा. अजय पंडित, डा. चौधरी सफरुद्दीन, सिंडिकेट सदस्य डा. पुष्पांज्ंलि, डा. डीपी कमल, डा. मुरारी शरण मंगलिक, डा. पूनम कुमारी, डा. अर्चना कटियार, डा. इरशद अली, डा. मनोज कुमार सिन्हा, डा. कमलेश पंडित,डा. गोविंद कुमार आदि मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: शिक्षकों ने कुलपति का घेराव किया