DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रदर्शनकारी सपाइयों पर लाठीचार्चा

0 बो, स्थान कैसरबाग बारादरी के सामने लाापत भवन स्थितोिला सपा कार्यालय: सपा कार्यकर्ताोिला अध्यक्ष अशोक यादव के नेतृत्व में प्रदर्शन की तैयारी कर रहे थे। तभी बारादरी के निकट किसी ने मायावती की होíडंग में आग लगा दी। पुलिस बल हरकत में आया। उसनेोिला कार्यालय पर मौाूद कार्यकर्ताओं की धुनाई शुरू की। कार्यालय में घुस कर उन्हें पीटा गया इसमें कई कार्यकर्ता घायल हुए।ड्ढr दोपहर 12 बो: सपा के नगर कार्यालय पर राय सभा सदस्य बनवारी लाल कंछल, भगवती सिंह, रविदास मेहरोत्रा, मो. हनीफ खान नेताओं के नेतृत्व में कार्यकर्ता कार्यालय पर आ रहे थे। तभी पुलिस ने लाठियाँ भाँानी शुरू कर दी। इससे भगदड़ मची। कैसरबाग बस अड्डे और नवीन मार्केट तक बदहवास हो कर लोग भागते नार आए। यहीं पर पुलिस के खिलाफ सपा कार्यकर्ताओं ने मोर्चा संभाल लिया। वे पत्थराव करने लगे। मौके पर आईाी, डीआईाी, एसएसपी पहुँच गए। उन्होंने भी लाठियाँ भाँाी।ोोोहाँ मिला उसकी लाठियों से धुनाई की। रबर की गोली व आँसू गैस का प्रयोग भी पुलिस ने किया।ड्ढr दोपहर 12.15 बो विधान भवन के सामने: लोहियावाहिनी के कार्यकर्ता विधान सभा मार्ग पर पहुँच कर छोटे समूहों में बिखर गए। यह समूह प्रदर्शन की ताक में था तभी पुलिस ने भाापा कार्यालय के निकट चार कार्यकर्ताओं को पकड़ कर बस में बैठाने का प्रयास किया। वे विरोध पर उतर आए। यह देख अन्य कार्यकर्ता रोड पर बैठ कर प्रदर्शन करने लगे। सीओ हारतगां ने पहुँचकर उन्हें गिरफ्तार करने का प्रयास किया। सीधे से नहीं बात बनती न देख पुलिस ने उन्हें उठा कर गाड़ी में बैठना चाहा। कार्यकर्ता भिड़ गए। इससे गुस्साए सीओ हारतगां व पुलिसोवानों ने कार्यकर्ताओं को लाठियों सेोमकर पीटा। सभी कार्यकर्ताओं को उठाकर पुलिस वैन में डाल कर पुलिस लाइन ले गए।ड्ढr 12.10 बो विक्रमादित्य मार्ग: कुछ कार्यकर्ता ठेले पर चंदे के प्रतीक स्वरूप पत्थर की शिला रखकर प्रदर्शन के लिए निकले। पार्टी कार्यालय से चंद कदम ही आगे बढ़े थे कि पुलिस ने पानी की बौछार छोड़ना शुरू किया। कार्यकर्ताओं को रूकते न देख पुलिस ने लाठीचरा कर उन्हें खदेड़ा।ड्ढr शहीद स्मारक 12.40 बो: हाारों कांग्रेसी कार्यकर्ता वरिष्ठ नेताओं की अगुवाई में हारतगां स्थित पटेल प्रतिमा के लिएोुलूस की शक्ल में चल पड़े। राीडेंसी, लेसा कार्यालय, कैसरबाग बस अड्डा पहुँचे। पुलिस ने रोकने का प्रयास किया। हुाुम के आगे पुलिस की एक न चली। नूरमािंल पर पुलिस ने उन्हें फिर रोकने का प्रयास किया। पानी की बौछार और पुलिस की लहराई लाठियाँ उन्हें रोक नहीं पाई। वह आगे बढ़ते रहे। यह देखोिला प्रशासन के अधिकारियों में हड़कम्प मच गया।ड्ढr आनन-फानन में रायल होटल चौराहे के पहले फायर बिग्रेड को सड़क पर तिरछा खड़ा उन्हें रोका। प्रशासन के अधिकारियों ने उन्हें गिरफ्तार कर वहीं रिहा करने की घोषणा की, लेकिन कांग्रेसी नेताओं का एक गुट अड़ गया कि उन्हें गिरफ्तार कियाोाए। यह देख एडीएम प्रशासन अनिल पाठक, एएसपी पूर्वी हरीश कुमार और एसीएम प्रथम राम सिंघासन प्रेम वरिष्ठ कांग्रेसी नेताओं से अनुनय-विनय करने लगे कि वह गिरफ्तारी के लिएोोर न दें। उनके पासोगह नहीं उन्हें रखने की। काफी देर बाद वरिष्ठ नेताओं के मानोाने के बाद अधिकारियों ने राहत महसूस की।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: प्रदर्शनकारी सपाइयों पर लाठीचार्चा