DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जागा पाक, जमात पर शिकंचाा

पाकिस्तान सरकार ने आखिरकार मुंबई हमलों में शामिल प्रमुख संगठन जमात-उद-दावा पर कार्रवाई शुरू कर दी है। पुलिस ने संगठन के करीब 164 आतंकवादियों को गिरफ्तार कर लिया है और इसके 5 प्रशिक्षण कैंपों पर छापे मारे हैं। पाकिस्तान के आंतरिक मामलों के मंत्री रहमान मलिक ने बताया कि जिनलोगों को गिरफ्तार किया गया है उनमें जमात के प्रमुख हाफिज मोहम्मद सईद भी है। इसके अलावा जकीउर रहमान लखवी तथा जरार शाह को भी गिरफ्तार कर लिया गया है जिनपर मुंबई हमलों की साजिश रचने और आतंकवादियों को लगातार पाकिस्तान से निर्देश देने का आरोप है। रहमान ने बताया कि पाकिस्तान ने एक उच्चाधिकार प्राप्त जांच दल गठित किया है जिसके प्रमुख आईजीपी ओहद के अधिकारी होंगे। जमात-उद-दावा पर मुंबई में पिछले साल 26 नवंबर के आतंकवादी हमले का आरोप है। संगठन के सदस्यों की गिरफ्तारी पर एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि हालांकि भारत ने पाकिस्तान को जो सबूत सौंपे हैं वे सबूत के तौर पर अदालत में कमजोर साबित होंगे। अधिकारी ने भारत को और जानकारी उपलब्ध कराने के लिए कहा।इस बीच रहमान मलिक से जब पूछा गया कि क्या वह मानते हैं कि मुंबई हमले की साजिश पाकिस्तान में ही रची गई तो उन्होंने इसका जवाब देने से इंकार कर दिया।ड्ढr रहमान ने बताया कि इस संगठन के 20 दफ्तरों, 87 स्कूलों, 2 पुस्तकालयों, 7 धार्मिक शिक्षा संस्थानों तथा 5 प्रशिक्षण कैंपों पर छापे मारकर उन्हें बंद कर दिया गया है। रहमान ने कहा कि पाकिस्तान एक जिम्मेवार राष्ट्र की तरह इनके खिलाफ कार्रवाई कर रही है। साथ में उन्होंने यह भी कहा कि वह यह कार्रवाई संयुक्त राष्ट्र द्वारा इस संगठन पर प्रतिबंध लगाने के कारण कर रहा है। उल्लेखनीय है कि मुंबई हमले के बाद संयुक्त राष्ट्र संघ ने जमात-उद-दावा पर प्रतिबंधित संगठन घोषित किया था। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान ने बार-बार संयुक्त जांच की बात दोहराई है, जिससे मामले को जल्द सुलझाने में आसानी होगी। रहमान ने कहा कि भारत ने कुछ जानकारियां पाकिस्तान को सौंपे हैं, लेकिन उसको सबूतों में बदलने के लिए पाकिस्तान को बहुत काम करना पड़ेगा, ताकि अदालत में उनके बलबूते पर केस लड़ा जा सके। रहमान ने कहा कि हमें विश्व के आगे यह साबित करना है कि भारत और पाक आतंकवाद के खिलाफ मुहिम में एक साथ खड़ा है।ड्ढr ड्ढr युद्ध का खतरा नहीं:गिलानीड्ढr इस्लामाबाद (एजेंसी)। भारतीय सेनाध्यक्ष की टिप्पणी पर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री युसुफ रजा गिलानी ने गुरुवार को कहा कि मुंबई पर हमले के बाद भारत सरकार पर जनता का जबर्दस्त दबाव है। इसके बावजूद भारत से युद्ध का कोई खतरा नहीं है। भारत के सेनाध्यक्ष दीपक कपूर ने बुधवार को कहा था कि पाकिस्तान से निपटन के लिए सभी विकल्प खुले हैं। गिलानी ने सूचना मंत्रालय में आन के दौरान संवाददाताओं से कहा कि दोनों देश परमाणु सम्पन्न हैं। फिर भी मैं सोचता हूं कि युद्ध का कोई खतरा नहीं है। बेनजीर भुट्टो की हत्या पर जांच के बारे में उन्होंने बताया कि संयुक्त राष्ट्र की जांच जल्द शुरू होन की उम्मीद है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: जागा पाक, जमात पर शिकंचाा