DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सीएम का कुसहा पर आरोप अनर्गल

ांग्रेस ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की विकास यात्रा को ठगी करार दिया है। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अनिल कुमार शर्मा ने कहा है कि मुख्यमंत्री जनता को ठगने का दूसरी बार प्रयास कर रहे हैं। इससे पहले वह सुशासन का नारा देकर जनता को ठग चुके हैं। यह विकास यात्रा किसी मुख्यमंत्री की नहीं बल्कि राजा की यात्रा है। श्री शर्मा गुरुवार को संवाददाता सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। इस मौके पर झारखंड प्रदेश लोजपा के महासचिव तारकेश्वर तिवारी ने कांग्रेस में शामिल होने की घोषणा की। श्री शर्मा ने कहा कि मुख्यमंत्री विकास यात्रा के बहाने लोकसभा चुनाव की राजनीतिक बिसात बिछा रहे हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री के इस आरोप को अनर्गल बताया कि केन्द्र सरकार उन्हें कुसहा बांध पर जाने से रोक रही है। संवाददाता सम्मेलन में प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष डा. समीर कुमार सिंह, डा. मदन मोहन झा, डा. ज्योति आदि उपस्थित थे। विकलांगों की अनदेखी पर गिरगी गाजड्ढr पटना (हि.ब्यू.)। विकलांगों के नामांकन और छात्रवृति से संबंधित प्रतिवेदन दिये बिना जनवरी माह का वेतन नहीं पा सकेंगे राज्य के प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारी। इस मद में प्राप्त राशि को खर्च नहीं करने वाले अधिकारियों पर भी गाज गिरगी। सरकार विकलांगों के हित की अनदेखी करने वालों के प्रति सख्त हो गई है। हर हाल में राज्य के सभी स्कूलों को यह बताना है कि उनके स्कूल में कितने विकलांगों को नामांकन हुआ है और कितने छात्रवृति पा रहे हैं। स्कूलों से प्रतिवेदन प्राप्त करने की जिम्मेवारी प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारियों को दी गई है। जिला शिक्षा अधीक्षक काम की मॉनीटरिंग करंगे। समाज कल्याण विभाग के अधिकारी भी जिलों में जाकर इसकी समीक्षा करंगे। राज्य निशक्तता आयुक्त महेश्वर प्रसाद सिंह ने मुजफ्फरपुर से शुरूआत कर दी है।ड्ढr ड्ढr हड़ताल ने बिगाड़े सार सिस्टमड्ढr पटना (हि.ब्यू.)। हड़ताल के कारण सचिवालय में सिस्टम पूरी तरह बिगड़ चुका है। सहकारिता विभाग में हड़ताल का असर इतना जबरदस्त था कि मंत्री को अपना कार्यालय भी बदलना पड़ गया। सहकारिता मंत्री गिरिराज सिंह ने कृषि मंत्री नागमणि के कक्ष में बैठकर विभाग का काम निपटाया। उधर आईएएस अधिकारियों को भी गाड़ियों के लिए इधर-उधर देखना पड़ रहा है। सचिवालय सेवा संघ के महासचिव अनिल कुमार सिंह, अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ (गोप गुट) के महासचिव रामबली प्रसाद व अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ के महामंत्री मंजुल कुमार दास ने कहा कि कर्मचारियों की सभी वाजिब मांगें माने जाने तक हड़ताल खत्म होने का सवाल ही नहीं है। उधर अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ (सेवांजलि) द्वारा हड़ताल वापस ले लेने से सरकार को राहत मिली है। महासंघ के रामानुज सिंह व महामंत्री पारसनाथ केन्द्रीय वेतनमान की जगह राज्य वेतनमान के लिए आवाज उठा रहे हैं।ड्ढr ड्ढr आज दिखाएंगे अपनी ताकतड्ढr पटना (हि.ब्यू.)। सरकार को अपनी मांगों को मानने के लिए गुरुवार का अल्टीमेटम देने के बाद 16 जनवरी को कई कर्मचारी संगठन सड़क पर उतरकर अपनी ताकत दिखाएंगे। यही नहीं मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के समक्ष भी अपना विरोध प्रदर्शित करंगे। समिति के अध्यक्ष शत्रुघ्न प्रसाद सिंह व ब्रजनंदन शर्मा, महासचिव केदार नाथ पांडेय व सचिव महेन्द्र प्रसाद शाही ने कहा कि शिक्षकों को जब तक केन्द्रीय वेतनमान नहीं मिलता, उनका विरोध जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि राजधानी पटना की सड़कों पर डेढ़ लाख शिक्षक अपना विरोध प्रदर्शन करंगे। उधर देवकरण राय ने 16 को मुख्यमंत्री के समक्ष विरोध प्रदर्शन का एलान किया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: एक नजर