DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

..और आनंद का आना

सफेद रंग की होंडा सिटी कार मॉडर्न स्कूल के अंदर आकर रुकती है। इसमें से उतरते हैं विश्व चैंपियन विश्वनाथन आनंद। उनके साथ अरुणा भी हैं, उनकी पत्नी। सीधे उन्हें उस हॉल में ले जाया जाता है जहां पाश्र्वनाथ शतरां टूर्नामेंट चल रहा है। थोड़े समय के लिए घड़ियां रोक दी जाती हैं। हॉल में घुसते ही आनंद का तालियों की गड़गड़ाहट के साथ स्वागत होता है। लगभग 15 मिनट के लिए मुकाबले रोक दिए जाते हैं। हर कोई आनंद की एक झलक पा लेना चाहता है। एसा हो भी क्यों न? अपने हीरो को करीब से देखने का मौका जो उन्हें मिल गया। आनंद स्टेा पर पहुंचते हैं। उन्हें गुलाब के फूलों की माला पहनाई जाती है। अरुणा को भी बुके दिया जाता है। आनंद कहते हैं, ‘मैं तो चाहता था कि कुछ बोर्ड का खेल देखूं। लेकिन यहां तो खेल ही रुक गया।’ मॉडर्न स्कूल की प्रिंसिपल लता वैद्यनाथन और दिल्ली शतरां संघ के सचिव भरत सिंह चौहान विश्व चैंपियन का स्वागत करते हैं। लगभग 10 मिनट के स्टे के दौरान आनंद शतरां के युवा स्टार परिमार्जन नेगी से भी गुफ्तगू करते रहे। वापस जाते हुए आनंद टॉप बोर्ड पर सूर्यशेखर गांगुली और पेत्र कोस्तेन्को का खेल देखने रुके, थोड़ा मुस्कुराए, फिर चल दिए। इस दौरान आनंद अपने चाहने वालों को ऑटोग्रॉफ भी देते रहे। चौहान कहते हैं, ‘आनंद आ गए। मेरा तो टूर्नामेंट सफल हो गया।’ इससे पूर्व आनंद ने एनआईआईटी मांडड चैम्पियंस एकेडमी चैस मास्टर 2008 के विजेताओं को पुरस्कृत किया। उन्होंने संवाददाताओं से कहा, लिनारेस में दुनिया के शीर्ष आठ खिलाड़ियों के बीच दिलचस्प मुकाबला होगा और इसमें मुझे अच्छा प्रदर्शन करने का विश्वास है। लिनारेस टूर्नामेंट 18 फरवरी से आठ मार्च तक लिनारेस (स्पेन) में होगा। आनंद इस टूर्नामेंट के गत चैम्पियन हैं और वह इस खिताब को कुल तीन बार (1007 और 2008) में जीत चुके हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ..और आनंद का आना