DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मेट्रो शहर की तरह दिखेगा पटना

पटना को मेट्रो लुक देने की कार्ययोजना पर काम शुरू किया जा रहा है। पहली प्राथमिकता सड॥कों को दुरुस्त करने की है। उसमें भी ट्रैफिक से प्रभावित सड़कों को पहले ठीक करने की कार्रवाई की जा रही है। नगर विकास एवं आवास विभाग ने किसी भी सूरत में तीन महीने के अन्दर पटना की दर्जन से ऊपर मुख्य सर्विस रोड को बनाने की कार्ययोजना बनायी है। अधिकारियों की मानें तो आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर भी सड़क निर्माण का काफी दबाव है। चूंकि पटना शहरी क्षेत्र से भाजपा को ही चुनाव लड़ना है और नगर विकास व सड़क विभाग भाजपा के ही जिम्मे है, इसलिए सड़क निर्माण कार्य प्राथमिकता में है।ड्ढr ड्ढr विभाग की योजना छह मुख्य सड़कों बेली रोड, बोरिंग रोड, कंकड़बाग ओल्ड बायपास, कंकड़बाग न्यू बायपास, अशोक राजपथ और बारी पथ से भारी ट्रैफिक से निजात दिलाने की है। इसके लिए बेली रोड और बोरिंग रोड के बीच के सर्विस सड़कों को पहले चरण में दुरुस्त करना है। कंकड़बाग ओल्ड बायपास और कंकड़बाग न्यू बायपास तथा अशोक राजपथ और बारी पथ के बीच के सर्विस सड़कों का भी चयन किया गया है।ड्ढr ड्ढr 150 करोड़ रुपए इन्हीं सर्विस सड़कों पर खर्च किये जाएंगे। नगर विकास एवं आवास विभाग के सचिव दीपक कुमार ने कहा कि इन सड़कों पर 150 करोड़ रुपए अगले तीन महीने के अन्दर खर्च किये जाएंगे। टेंडर की प्रक्रिया शुरू की गई है। वैसे भी 250 करोड़ रुपए की लागत से पटना की तीन दर्जन मुख्य सड़कों का निर्माण पहले से ही पथ निर्माण विभाग कर रहा है। इसमें नगर विकास की राशि जोड़ ली जाए तो पटना की सड़कों पर खर्च होने वाली राशि 400 करोड़ रुपए पर पहुंच जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मेट्रो शहर की तरह दिखेगा पटना