अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हड़ताल के 48 घंटे में ही 24 मरीचाों की मौत

रिम्स में जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल के 48 घंटे के भीतर ही 24 मरीाों की मौत हो चुकी है। शनिवार को 12 मरीाों की मौत हुई। इस बीच अस्पताल से मरीाों का पलायन भी जारी है। इनडोर में भरती मरीाों का इलाज ठीक से नहीं हो रहा। इधर जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल से निपटने के लिए सरकार और रिम्स प्रबंधन की ओर से प्रयास किये जा रहे हैं। शनिवार को ओपीडी में 632 मरीाों का इलाज हुआ। अस्पताल में अभी मरीा भरती हैं। 14 नये मरीा शनिवार को भरती हुए। अस्पताल में कुल 20 मेजर और 53 माइनर ऑपरशन हुए। इसके अलावा 118 पैथोलॉजिकल जांच, 73 एक्स-र, 24 सीटी स्कैन, 35 अल्ट्रासाउंड, 4 एमआरआइ, 11 इसीजी हुए।ड्ढr चिकित्सा मंच ने की हड़ताल समाप्त कराने की अपील : झारखंड चिकित्सा मंच ने राज्यपाल से रिम्स में डॉक्टरों की हड़ताल समाप्त कराने के लिए पहल करने की अपील की है। मंच के आरके सरावगी, केके पोद्दार, डॉ डीपी आर्या, डॉ सतीश मिा, डॉ बीणा बियानी, डॉ अरविंद अग्रवाल, डॉ कुमार शीलमणी, डॉ इंदिरा पंडित ने कहा कि हड़ताल उचित नहीं है।ड्ढr रिम्स के डॉक्टरों-कर्मियों की सभी छुट्टियां रद्दड्ढr रिम्स डॉक्टरों और कर्मचारियों की सभी छुट्टियां रद्द कर दी गयी हैं। सभी विभागाध्यक्षों को रोस्टर डय़ूटी तैयार करने और अनुपस्थित डॉक्टरों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने का निर्देश दिया गया है।ड्ढr स्वास्थ्य सचिव ने किया रिम्स का औचक निरीक्षणड्ढr अनुपस्थित डॉ मिनी रानी अखौरी का वेतन काटने का निर्देश: स्वास्थ्य सचिव डॉ प्रदीप कुमार ने शनिवार को रिम्स का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने शिशु रोग विभाग के ओपीडी में अनुपस्थित डॉ मिनी रानी अखौरी का वेतन काटने और उनसे स्पष्टीकरण पूछने का निर्देश रिम्स निदेशक को दिया। इस दौरान डॉ जितेंद्र सिंह, डॉ एनएन अग्रवाल, डॉ आइबी प्रसाद और डॉ एसके चौधरी उपस्थित थे।ड्ढr अब रिम्स के विस्थापितों ने दी आंदोलन की धमकीड्ढr रांची। रिम्स विस्थापित मंच ने कहा है कि रिम्स परिसर में शॉपिंग कांप्लेक्स बनने का विरोध किया जायेगा। मंच के लोटन चौधरी ने आंदोलन करने की चेतावनी देते हुए कहा कि उनकी जमीन अस्पताल बनाने के लिए ली गयी थी। इसलिए वे किसी भी हाल में शॉपिंग कांप्लेक्स नहीं बनने देंगे। जरूरत पड़ी, तो सड़क पर उतरंगे।ड्ढr हड़ताल पर अड़े जूनियर डॉक्टरों ने कहाड्ढr जो करना है, कर लेंड्ढr रांची। जूनियर डॉक्टरों ने उन पर की जा रही कार्रवाई को अनुचित बताया है। डॉक्टरों ने कहा है कि सरकार को जो करना है, कर ले। उनकी मांगें जायज हैं। जब तक मांगें पूरी प्नहीं की जातीं, हड़ताल जारी रहेगी। डॉक्टरों ने राज्यव्यापी हड़ताल की भी चेतावनी दी है। इन लोगों ने कहा है कि वे लोग पीएमसीएच और एमजीएम के जूनियर डॉक्टरों से भी बात कर रहे हैं। इन दोनों मेडिकल कॉलेजों में भी हड़ताल होगी। जेडीए ने स्वास्थ्य सचिव के उस बयान की निंदा की है, जिसमें उन्होंने डॉक्टरों से बातचीत नहीं करने की बात कही है। जेडीए ने कहा है कि सचिव ने उन्हें 15 जनवरी तक मांगें मान लेने का आश्वासन दिया था, लेकिन उसे पूरा नहीं किया गया।ड्ढr नहीं हो रहा शिवलाल की आंखों का इलाजड्ढr रांची। रिम्स में डॉक्टरों की हड़ताल के कारण आमगाछी गोलीकांड में घायल शिवलाल किस्कू की आंख का इलाज नहीं हो पा रहा है। इसे लेकर झारखंड उलगुलान मंच के लोग गुस्से में हैं। मंच के अनुसार शिवलाल की एक आंख खराब हो चुकी है। दूसरी आंख बचायी जा सकती है, परंतु डॉक्टर आंख में फंसी गोली को निकालना नहीं चाह रहे हैं। शिवलाल की मां अपने बेटे की स्थिति देख बिलख रही हैं।ड्ढr मरीाों को भगा, हंगामाड्ढr रांची। शनिवार को अल्ट्रसाउंड से मरीाों को भगाये जाने पर खूब हंगामा किया। मरीाों का आरोप था कि कर्मचारी हड़ताल की बात कह कर मरीाों को भगा रहे थे। इस पर मरीा और उनके परिान निदेशक डॉ एनएन अग्रवाल के पास गये। निदेशक ने कर्मचारियों को फटकारा और अल्ट्रासाउंड करने को कहा। इस मामले में डॉ चंद्रमोहन से पूछताछ की गयी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मरीचाों का पलायन जारी, स्थिति समान्य बनाने का हो रहा प्रयास