DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हड़ताल पर नहीं जाएगा भासा

आईएमए के साथ ही बिहार राज्य स्वास्थ्य सेवा संघ (भासा) भी सरकार के साथ खड़ा हो गया है। रविवार को राज्य कार्यकारिणी की बैठक में सर्वसम्मति से भासा ने निर्णय किया है कि उन्हें नीतीश सरकार की न्यायप्रियता और सदाशयता पर पूरा विश्वास है। यह देखते हुए स्वास्थ्य सेवा संवर्ग के पूर राज्य मे फैले 3500 डाक्टर फिलहाल हड़ताल पर नहीं जाएंगे और सरकार से वार्ता जारी रखेंगे। भासा बिहार स्वास्थ्य सेवा संवर्ग नियमावली 2008 की गंभीर खामियों की ओर सरकार का ध्यान आकृष्ट कराते रहेगी।ड्ढr ड्ढr हालांकि सरकार के दो निर्णयों पर डाक्टरों ने घोर आपत्ति व्यक्त की और कहा कि वे उसका विरोध करंगे। अस्पतालों में अंगूठा द्वारा उपस्थिति बनाने एवं मोबाइल ट्रकिंग को पमानजनक बताते हुए भासा ने निर्णय किया है कि जब तक सरकार अन्य विभागों में इस व्यवस्था को बहाल नहीं करगी डाक्टर भी इसका पालन नहीं करंगे।ड्ढr ड्ढr भासा के प्रवक्ता डा. रणजीत कुमार ने कहा कि छठे केन्द्रीय वेतन पुनरीक्षण के आलोक में राज्य स्वास्थ्य सेवा संवर्ग को पे बैंड-3 के अन्तर्गत केन्द्र के चिकित्सकों के समान मूल वेतनमान देने के सरकार के निर्णय का डाक्टरों ने स्वागत किया है। साथ ही उम्मीद की है कि सरकार अन्य ुिन्दुओं को लागू करते समय डाक्टरों की संवर्ग संरचना, प्रोन्नति, भत्ते एवं सभी सेवा शत्र्ते मुख्यमंत्री की घोषणा के अनुसार केन्द्र के डाक्टरों के समान ही करेगी।ड्ढr ड्ढr सीपीएस डायेनेमिक एसीपी केन्द्र में उसके लागू होने की तिथि से राज्य के डाक्टरों को भी दी जाएगी। स्वास्थ्य सेवा विशेषज्ञ उपसंवर्ग का गठन, प्रोन्नति और वेतनमान फिटमेन्ट कमेटी की अनुशंसा के अनुसार केन्द्र के समान होगी। डाक्टरों के भर्ती की न्यूनतम अर्हता एमबीबीएस और सिर्फ निबंधन होगी।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: हड़ताल पर नहीं जाएगा भासा