DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

और नरम पड़ा पाकिस्तान

मुंबई हमलों के तमाम गुनाहगारों की गिरफ्तारी को निहायत जरूरी बताते हुए पाकिस्तान ने कहा है कि यदि भारत तफ्तीश में सहयोग देने के इरादे से अपनी जांच टीम भेजता है तो इसका दिल खोलकर खर-मकदम किया जाएगा। साथ ही उसने आग्रह किया है कि पाक जांच दल को भी भारत आने का मौका दिया जाए। लेकिन उसने आगाह भी किया है कि भारत गुनाहगारों को सौंपने पर जोर न दे, वरना हम भी समझौता एक्सप्रेस ब्लास्ट के संदिग्ध आरोपी ले.जनरल श्रीकांत पुरोहित समेत अन्य के प्रत्यर्पण की मांग कर बैठेंगे।ड्ढr ड्ढr मुंबई हमलों की जांच कर रही पाकिस्तान की टीम कसाब से पूछताछ करना चाहती है। वह जानना चाहती है कि कसाब क पाक स्थित आकाओं स किस तरह के संपर्क थे। अधिकारी का मानना है कि कसाब ही वह कड़ी है जो पाक स्थित आतंकी संगठनों की मुंबई हमलों में भूमिका को सटीक ढंग से जोड़ सकती है। इस बीच, भारत जल्द ही पाकिस्तान को कुछ और सबूत देने की तैयारी कर रहा है। इस बार जो सबूत सौंपे जाएंगे, उनसे साफ हो जाएगा कि लश्कर नेता रहमान लखवी और जरार शाह ही हमले के मुख्य षडय़ंत्रकारी थे और उन्होंने ही हमलावरों को प्रशिक्षण वगैरह दी। पाकिस्तानी गृह मंत्रालय के प्रमुख रहमान मलिक ने रविवार को लाहौर में संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि मुंबई के बर्बर हमले में जिस किसी के भी हाथ हों, उस पर मुल्क के आतंकवाद रोधी कानून के तहत ही मुकदमा किया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: और नरम पड़ा पाकिस्तान