अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गांगुली पाश्र्वनाथ शतरंचा चैंपियन

सूर्यशेखर गांगुली का सपना पूरा हो गया। दिल्ली में सोमवार से पहले छह बार के राष्ट्रीय चैंपियन गांगुली ने कभी ट्रॉफी नहीं उठाई थी। सोमवार को उनकी यह ख्वाहिश पूरी हो गई। 7वें पाश्र्वनाथ अंतरराष्ट्रीय शतरां टूर्नामेंट में वह चैंपियन बने। गांगुली और रूसी जीएम मिखाइल उलिबिन में टाई था। दोनों के 8.5-8.5 अंक थे। टाईब्रेक में पोल पोजीशन पाई गांगुली ने। फाइनल राउंड में गांगुली 15 चालों के बाद ही पी. कार्तिकेयन से ड्रॉ पर सहमत हो गए। शायद उन्हें पता था कि टाईब्रेक में वह ही चैंपियन बनेंगे। उलिबिन ने एम.एस. तेज कुमार को हराया। जीएम पेत्र कोस्तेन्को की अंतिम राउंड की बाजी भारतीय जीएम नीलोत्पल दास के साथ बराबरी पर छूटी। वह 8 अंक के साथ तीसर स्थान पर रहे। कार्तिकेयन, एस.पी. सेतुरमन और प्रथमेश मोकल टूर्नामेंट में जीएम नॉर्म हासिल करने में सफल रहे। ये दोनों क्रमश: चौथे व पांचवें स्थान पर रहे। गांगुली ने कहा, ‘मेरी दिली ख्वाहिश थी दिल्ली में चैंपियन बनने की। अब यह पूरी हो गई है। मम्मी-पापा के साथ कुछ दिन राजस्थान घूमने के बाद मैं दिल्ली से ही जिब्राल्टर के लिए रवाना हो जाऊंगा।’

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: गांगुली पाश्र्वनाथ शतरंचा चैंपियन