DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दर्शकों का उत्पात, जान बचा भागे सहवाग

क्रिकेट मैदान में बरसे रोड़े, यूनिवर्सिटी में चले बमड्ढr चौकों-छक्कों की कमी नहीं थी लेकिन मैच के बाद मैदान में जो भी कुछ हुआ उसने सुरक्षा पर कई सवाल खड़े कर दिए हैं। स्थिति एसी हो गई की अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी वीरंद्र सहवाग, गौतम गंभीर, प्रवीण कुमार, पीयूष चावला, अजय जडेाा और विनोद कांबली जसे खिलाड़ियों को भीड़ से जान बचाकर भागना पड़ा। यह घटना हुई पटना के मोइनुल हक स्टेडियम में। इसमें कई पुलिसकर्मियों समेत सैकड़ों दर्शक घायल हो गए।ड्ढr ड्ढr बाढ़ पीड़ितों के सहायतार्थ आयोजित ट्वेंटी-20 क्रिकेट फेस्टिवल के फाइनल में सहवाग और गंभीर जसे खिलाड़ी शिरकत कर रहे थे। मैच की समाप्ति के बाद पुरस्कार वितरण समारोह का आयोजन मैदान के एक हिस्से में किया जा रहा था। इस समारोह में मुख्य अतिथि के तौर पर राज्यपाल आरएल भाटिया भी मौजूद थे। तभी मैदान में चारों ओर से रोड़ेबाजी होने लगी। इसके साथ ही स्टैंड के हर हिस्से से दर्शकों की घुसपैठ मैदान में शुरू हो गई। पुलिस की लाठी का भी कोई असर नहीं हुआ। हाारों की भीड़ अपने चहेते खिलाड़ियों की एक झलक पाने के लिए पुरस्कार वितरण समारोह की ओर बढ़ गई। एसी स्थिति में समारोह को पवेलियन के पोर्टिको में स्थानांतरित कर दिया गया। लेकिन दर्शकों का उत्पात कम नहीं हुआ। पुरस्कार वितरण समारोह की समाप्ति के बाद सहवाग, गंभीर, प्रवीण कुमार, जडेाा और कांबली स्टेडियम के दूसर सिर पर स्थित अपने ड्रैसिंग रूम की ओर भागे और दर्शकों का हुाूम उनको छूने और हाथ मिलाने के लिए दौड़ी। स्टार खिलाड़ी फर्राटेदार दौड़ लगाते हुए ड्रैसिंग रूम में जाकर कैद हो गए। फिर पांच मिनट बाद ही वहां से निकलकर बाहर खड़ी बस में जाकर बैठ गए। लोगों की नाराजगी इस बात को लेकर थी कि अधिकारी अपने बाल-बच्चों को आगे कर ऑटोग्राफ दिला रहे हैं और वे अपने चहेते खिलाड़ियों को ठीक से देख भी नहीं पा रहे हैं। इस बीच सिटी एसपी अनवर हुसैन ने बताया कि रोड़ेबाजी से दो सिपाही जख्मी हो गए हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: दर्शकों का उत्पात, जान बचा भागे सहवाग