DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ऐतिहासिक घड़ी और चुनौतियां बड़ी

। बराक ओबामा मंगलवार को जसे ही बाइबिल पर हाथ रखकर 44 वें अमेरिकी राष्ट्रपति के रूप में शपथ लेंगे, इतिहास में नया अध्याय जुड़ जायेगा। यह वही ऐतिहासिक बाइबिल होगी जिस पर हाथ रख कभी अब्राहम लिंकन ने शपथ ली थी।ड्ढr इस ऐतिहासिक क्षण का गवाह बनने के लिए समारोह स्थल पर करीब बीस लाख लोग जुटेंगे। यह भी एक रिकार्ड होगा। ओबामा ने पार्टी के चुनाव में हिलेरी क्िलंटन को पछाड़ा। राष्ट्रपति पद के पहले अश्वेत डेमोकेट्रिक उम्मीदवार के रूप में जीत दर्ज कर वह पहले ही इतिहास रच चुके हैं। लेकिन उन्हें भी पता है कि परीक्षा की असली घड़ी अब है। ऑफिस संभालने के साथ ही हर दिन अमेरिकी जनता की निगाहों में सवाल उठेंगे- ‘आज मंदी से निपटने के लिए क्या किया गया? बेरोगारी खत्म करने के लिए कौन से कदम उठाये जायेंगे?’ड्ढr दुनिया की निगाहें इस बात पर होंगी कि अफगानिस्तान और इराक में अमेरिका की छेड़ी लड़ाई और गाजा पट्टी में चल रहे खून खराबे में उनका नया कदम क्या होगा। शायद इसीलिए ओबामा ने अमेरिकी जनता से साफ-साफ कहा है - ‘आने वाले दिन और कठिन होंगे और आम अमेरिकी को भी कुर्बानियां के लिए तैयार रहना होगा।’

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ऐतिहासिक घड़ी और चुनौतियां बड़ी