DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नन्हें-मुन्ने विदेशी छात्रों बने राम,लक्ष्मण और सीता

सुशांत लोक स्थित एसेल्सियर अमेरिकन स्कूल में नन्हें-मुन्हें विदेशी छात्रों ने रामायण के पात्रों का किरदार निभाकर सबका दिल मोह मिला। इसमें प्री के साथ साथ जूनियर विंग के बच्चे शामिल हुए। बच्चों ने रामयण के राम,लक्ष्मण और सीता के रूप में स्टेज पर पाठ किया। इसके साथ ही पैरेंट़्स ने भी इसनका मजा लिया।

एसेल्सियर अमेरिकन स्कूल में चीन, कोरिया, यूके , आस्ट्रेलिया, यूरोप , फ्रांस और यूएसए सहित 25 देशों के बच्चें यहां पर शिक्षा ले रहे हैं। इन बच्चों को भारतीय कल्चर से रूबरू कराने के लिए स्कूल की ओर से दिपाली मेले के अवसर रामायण पाठ का आयोजन किया गया। इसके लिए बच्चों को रामलीला के पात्रों से संबंधित प्रशिक्षण दिया जा रहा था। इन नन्हें बच्चों ने स्टेज पर बड़ी खुबसूरती से भगवान राम व लक्षण सहित हनुमान का रोल अदा किया। यह बच्चें भले ही हिन्दी नहीं बोल पा रहे थे लेकिन,स्टेज पर उन्होंने सभी पात्रों रोल बेहतर ढंग से किया। यहीं नहीं इसी वेशभूषा में बच्चें स्कूल के ग्राउंड में भी पैरेट्स के साथ भी रहे।
 
स्कूल की निर्देशिक शालिनी नाम्बियार ने बताया कि शुक्रवार को स्कूल से आठ वर्ष तक के बच्चों ने रामलीला में भाग लिया। इस आयोजन के पीछे हमारा उद़ेश्य इन विदेशी बच्चों को इंडियन कल्चर के बारे में जानकारी देना था। जब यह बच्चें रामलीला में संवाद कर रहे थे तो उनके पैरेंट्स यह देखकर काफी खुश हो रहे थे। वह बताती है कि यहां पर 25 देशों के बच्चें यहां पर शिक्षा ले रहे है। इन बच्चों को हर भारतीय त्योहार के बारे में बताया जाता है। इसके अलावा विभिन्न कक्षा के छात्रों ने मिट़टी से दिये बनाए। सीनियर वर्ग के बच्चों ने कई रंगारंग कार्यक्रम का आयोजन किया। इसमें सभी पैरेंट़्स, छात्रों व स्कूल स्टाफ ने भाग लिया। अंत में स्कूल बैंड ने कार्यक्रम प्रस्तुत किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:नन्हें-मुन्ने विदेशी छात्रों बने राम,लक्ष्मण और सीता