DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारत-दक्षिण कोरिया ने परमाणु करार को दिया अंतिम रूप

भारत-दक्षिण कोरिया ने परमाणु करार को दिया अंतिम रूप

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार शिवशंकर मेनन ने शुक्रवार को यहां कहा कि भारत और दक्षिण कोरिया के बीच असैन्य परमाणु सहयोग के करार को अंतिम रूप दे दिया गया है और अब केवल उस पर हस्ताक्षर होना शेष है। दोनों देशों के नेताओं की बैठक के बाद मेनन ने यह बात कही।

पूर्वी एशियाई देशों के सम्मेलन में भाग लेने हनोई पहुंचे प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति ली म्यंग-बाक से मुलाकात की। दोनों नेताओं ने द्विपक्षीय संबंधों की समीक्षा और प्रगति पर चर्चा की।

मेनन ने बताया कि इस मुलाकात के दौरान दोनों नेताओं ने द्विपक्षीय सम्बंधों और म्यंग-बाक के भारत दौरे के बाद से रिश्ते में आई प्रगति की समीक्षा की। मेनन ने कहा कि चूंकि हम व्यापक आर्थिक समझौते पर सहमत हो चुके हैं, लिहाजा हमने परमाणु ऊर्जा के असैन्य उपयोग में सहयोग पर भी एक समझौते को अंतिम रूप दिया है, जिस पर अब हस्ताक्षर करना बाकी है।

मेनन ने कहा कि असैन्य उड्डयन एवं अंतरिक्ष, तथा कई अन्य क्षेत्रों में संतोषजनक प्रगति हुई है। आर्थिक सम्बंध भी तेजी से आगे बढ़ रहे हैं।

दक्षिण कोरिया में 11 नवम्बर से शुरू हो रहे जी-20 सम्मेलन के पहले दोनों नेताओं ने जी-20 के मुद्दों पर चर्चा की। बैठक में दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति ने ''फैसलों के व्यवस्थित क्रियान्वयन की प्रणाली'' पर जोर दिया।

उल्लेखनीय है कि दक्षिण कोरिया की स्टील कंपनी पॉस्को द्वारा उड़ीसा में लगाए जाने वाले 12 अरब डॉलर की परियोजना पर विवाद खड़ा हो गया है, लेकिन बैठक में इस पर चर्चा नहीं हुई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:भारत-दक्षिण कोरिया ने परमाणु करार को दिया अंतिम रूप