DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

'चुनावों में कांग्रेस के जीरो रिकॉर्ड कोई तोड़ नहीं सकता'

देश में आपात काल के बाद 1977 में हुए संसदीय चुनावों में मतदाताओं द्वारा कांग्रेस को चखाये गये पराजय के स्वाद का उल्लेख करते हुए भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने शुक्रवार को कहा कि उस समय बना कांग्रेस का जीरो का रिकार्ड कोई तोड़ नहीं सकता।

भागलपुर में एक चुनावी सभा में आडवाणी ने कहा कि हिंदुस्तान का मतदाता कोई बात तय कर लेता है तो परिणाम साफ दिखाई देते हैं। वे लोकतंत्र को आगे बढ़ाते हैं। 1977 के संसदीय चुनावों में कांग्रेस के जीरो का रिकार्ड कोई तोड़ नहीं सकता।

आडवाणी ने कहा कि आपातकाल के बाद हुए चुनावों में बिहार में लोकसभा की 54 तथा उत्तर प्रदेश में 85 सीटों में से कांग्रेस को शून्य सीटें मिली थी। पार्टी का इसी प्रकार का हश्र हरियाणा, पंजाब और दिल्ली में भी हुआ था। उन्होंने कहा कि क्रिकेट में रूचि रखने वाले कुछ नौजवान सचिन, धोनी के शतक गिनते हैं और कुछ को शौक होता है कि किसने कितने शून्य बनाये हैं।

आडवाणी ने कहा कि मैं आपको राजनीति के शून्य के बारे में जानकारी दे सकता हूं। 1977 में संसदीय चुनाव में कांग्रेस ने शून्य का रिकार्ड बनाया था। मध्य प्रदेश में उस समय कांग्रेस को 40 संसदीय सीटों में से एक सीट प्राप्त हुई थी वह कोई स्कोर नहीं था बल्कि नो बाल था।

पूर्व केंद्रीय गृह मंत्री ने चुनावी बहस के लिए जनता की अदालत लगाने की बात कही और चुनाव आयोग से इसकी पहल करने को कहा ताकि सार्वजनिक मंच पर नेताओं के बीच बहस हो सके।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:'चुनावों में कांग्रेस के जीरो रिकॉर्ड कोई तोड़ नहीं सकता'