DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हाई कोर्ट ने 11 विधायकों की अयोग्यता को सही ठहराया

हाई कोर्ट ने 11 विधायकों की अयोग्यता को सही ठहराया

कर्नाटक में भाजपा सरकार को शुक्रवार को उस समय जबर्दस्त राहत मिली जब उच्च न्यायालय में तीसरे न्यायाधीश ने मुख्य न्यायाधीश के फैसले से सहमति जताते हुए भाजपा के 11 विधायकों की अयोग्यता बरकरार रखी।

यह मामला मुख्य न्यायाधीश जेएस शेखर की अध्यक्षता वाली खंडपीठ ने मामले में एक राय नहीं बन पाने पर तीसरे न्यायाधीश न्यायमूर्ति वीजी सभाहित को सौंप दिया था।

न्यायमूर्ति सभाहित ने असंतुष्ट विधायकों को अयोग्य घोषित किए जाने के विधानसभा अध्यक्ष केजी बोपैया के आदेश को बरकरार रखा। उन्होंने कहा कि अयोग्य घोषित किए जाने का विधानसभा अध्यक्ष का फैसला संविधान की 10वीं अनुसूची के पैरा 2.1,ए दल बदल कानून के अनुरूप है।

पूर्व में खंडपीठ में शामिल दो न्यायाधीशों ने अलग़ अलग फैसला दिया था। मुख्य न्यायाधीश ने विधायकों की अयोग्यता को बरकरार रखा था जबकि इसमें शामिल दूसरे न्यायाधीश न्यायमूर्ति एन कुमार ने विधानसभा अध्यक्ष के आदेश को खारिज कर दिया था। इस पर पीठ ने मामला तीसरे न्यायाधीश के पास भेज दिया था।

न्यायमूर्ति सभाहित ने आज औपचारिक आदेश सुनाने के लिए अपने फैसले को खंडपीठ के सामने रखा। अदालत का आज का आदेश भाजपा के लिए एक बड़ी जीत की तरह है जो विधायकों की बगावत से संकट में थी और 14 अक्टूबर को 16 अयोग्य विधायकों को विधानसभा से बाहर रखे जाने पर विश्वास मत जीत पाई थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:हाई कोर्ट ने 11 विधायकों की अयोग्यता को सही ठहराया