DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एशियाड में भारत को हराना आसान नहीं होगा : सोहेल अब्बास

एशियाड में भारत को हराना आसान नहीं होगा : सोहेल अब्बास

पाकिस्तान हॉकी टीम के कप्तान ज़ीशान अशरफ और स्टार स्ट्राइकर रेहान बट्ट भले ही चीन में अगले महीने होने वाले एशियाई खेलों में भारत से विश्वकप और राष्ट्रमंडल खेलों की हार का बदला चुकता करने का दावा करें लेकिन विश्व रिकॉर्डधारी ड्रैग फ्लिकर सोहेल अब्बास का मानना है कि भारतीय टीम को हराना आसान नहीं होगा।
     
सोहेल ने इस्लामाबाद से कहा कि राष्ट्रमंडल खेलों में फाइनल तक पहुंची भारतीय टीम में ज़बर्दस्त सुधार आया है और वह आत्मविश्वास से ओतप्रोत भी है। उसे एशियाई खेलों में हराना आसान नहीं होगा। हमें अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना होगा। फरवरी मार्च में भारत में हुए विश्वकप में खराब प्रदर्शन और अनुशासनात्मक कारणों से टीम से बाहर किए गए अब्बास को राष्ट्रमंडल खेलों में पाकिस्तान के खराब प्रदर्शन के बाद एशियाड की तैयारी के लिए 23 अक्टूबर से शुरू हुए शिविर में बुलाया गया है।
     
विश्वकप और राष्ट्रमंडल खेलों में भारत ने पाकिस्तान को करारी शिकस्त दी थी जिसके बाद अशरफ और बट्ट ने भारतीय दर्शकों पर अशिष्टता का आरोप मढ़ते हुए चीन में बदला चुकता करने की बात कही थी। सोहेल ने कहा कि एशियाड में भारत से मुकाबला सबसे कठिन होगा। साल्टा में चैम्पियंस चैलेंज वन में हमने जिस भारतीय टीम को हराया था, यह वो टीम नहीं है। जोस ब्रासा की यह टीम बेहतरीन आक्रामक हॉकी खेल रही है और इसे हराने के लिए ऑस्ट्रेलिया की तरह खेलना होगा।

राष्ट्रमंडल खेलों में भारत के प्रदर्शन की तारीफ करते हुए सोहेल ने कहा कि भारतीयों ने हाथ आए मौके भुनाए जो पाकिस्तान नहीं कर सका। भारतीय टीम में स्थिरता है और कोच भी नहीं बदला गया है जिसका फायदा मिल रहा है। उन्होंने एशियाड में प्रतिस्पर्धा का स्तर काफी कड़ा होने का अनुमान लगाते हुए कहा कि सिर्फ भारत ही नहीं बल्कि जापान और चीन ने भी काफी सुधार किया है। कोरिया के बारे में कुछ कहने की ज़रूरत नहीं है। इसमें हर मैच अहम होगा।
     
भारत के खिलाफ मैचों में अतिरिक्त तनाव के बारे में पूछने पर सोहेल ने स्वीकार किया कि खिलाड़ी इन मैचों में अक्सर रणनीति भूल जाते हैं। उन्होंने कहा कि दोनों देशों में हॉकी प्रेमी एक दूसरे से हार पसंद नहीं करते लिहाज़ा खिलाड़ियों पर नकारात्मक दबाव काफी होता है। ऐसे में कोच का बनाया प्लान भूलकर खिलाड़ी अपना नैसर्गिक खेल खेलने पर उतारू हो जाते हैं जो घातक होता है।
     
भारत और पाकिस्तान के बीच हॉकी टेस्ट सीरीज़ के प्रस्ताव को अच्छी पहल बताते हुए उन्होंने कहा कि इससे अनावश्यक हाइप कम होगी। उन्होंने कहा कि ऐसी टेस्ट सीरीज़ ज़रूरी है ताकि दोनों टीमों के मुकाबले को लेकर हाइप कम हो। तनाव कम होगी तो अच्छी हॉकी देखने को मिलेगी। आधुनिक हॉकी में तमाम भेद मिट चुके हैं और हम भी यूरोपीय तथा एशियाई हॉकी का मिला जुला रूप ही खेल रहे हैं। हमें एक दूसरे से अधिक से अधिक खेलना चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एशियाड में भारत को हराना आसान नहीं होगा : सोहेल अब्बास