अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वैश्विक समृद्धि सूचकांक में दस पायदान फिसला भारत

वैश्विक समृद्धि सूचकांक में दस पायदान फिसला भारत

वैश्विक समृद्धि सूचकांक में भारत दस स्थान फिसलकर 88वें स्थान पर आ गया है। लंदन के लेगाटुम इंस्टीट्यूट द्वारा तैयार इस सूचकांक में भारत पिछले साल के 78वें स्थान पर था। संस्थान का कहना है कि स्वास्थ्य सेवाओं तथा शिक्षा प्रणाली के साथ-साथ उद्यमी बुनियादी ढांचे की कमजोरी से भारत की रैकिंग घटी है।

इस सूचकांक में 110 देशों को शामिल किया गया है जिनमें शीर्ष पर नार्वे तथा उसके बाद क्रमश: डेनमार्क, फिनलैंड, आस्ट्रेलिया तथा न्यूजीलैंड है।

इसमें चीन को 58वें स्थान पर रखा गया है। संपन्नता के इस सूचकांक में आर्थिक वृद्धि, लोगों के रहन सहन का स्तर पर गौर किया जाता है। इसमें गैलप वर्ल्ड पोल 2009 और संयुक्त राष्ट्र की विकास रिपोर्ट से भी आंकडे़ जुटाये जाते हैं।

भारत जिन दो मामलों में काफी ऊपर है, उनमें अर्थव्यवस्था 44वें स्थान और संचालन 41वें स्थान पर है।  इंस्टीटयूट के अनुसार इन दोनों मामलों में जनता का विश्वास काफी ऊंचा है। तीन तिमाही भारतीयों ने सरकार के कामकाज और देश के वित्तीय संस्थानों में काफी विश्वास जताया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:वैश्विक समृद्धि सूचकांक में दस पायदान फिसला भारत