DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हनोई में मिले चीनी प्रधानमंत्री जियाबाओ और मनमोहन

हनोई में मिले चीनी प्रधानमंत्री जियाबाओ और मनमोहन

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने शुक्रवार को अपने चीनी समकक्ष वेन जियाबाओ से मुलाकात की। दोनों देशों के बीच जुलाई में रक्षा संबंध रुकने के बाद से दोनों के बीच शीर्ष स्तर की यह पहली मुलाकात थी।

संभावना व्यक्त की जा रही है कि इस बैठक में कश्मीर के लोगों को नत्थी किया हुआ वीजा देने के मामले के अलावा कई आर्थिक पहलुओं पर बात हुई।

दोनों नेताओं के बीच आसियान-भारत और पूर्वी एशिया सम्मेलन के इतर मुलाकात होने से पहले भारत सरकार के सूत्रों ने संभावना व्यक्त की थी कि दोनों देशों के बीच बैठक अच्छी और सारगर्भित होगी।

चीन ने दो साल पहले से कश्मीर के लोगों को नत्थी किया वीजा देना शुरू किया था। इस वर्ष जुलाई में बीजिंग ने सेना की उत्तरी कमान के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल बी एस जसवाल को भी ऐसा ही वीजा देना चाहा, जिसके बाद इस मुद्दे पर विवाद पैदा हो गया।

भारत ने इस विवाद के मद्देनजर दोनों देशों के बीच रक्षा संबंध रोक दिए और बार-बार इस बात पर जोर दिया कि जब तक चीन जम्मू-कश्मीर को लेकर अपने रुख को बदल नहीं लेता, तब तक इन संबंधों पर विराम लगा रहेगा।

हालांकि चीन इसके बाद भी इसी बात पर अड़ा रहा कि वह अपना रुख नहीं बदलेगा। सूत्रों ने बताया कि बातचीत के दौरान आर्थिक पहलू का मुद्दा भी उठेगा। भारत ने दोनों देशों के बीच व्यापार में असंतुलन के मुद्दे को लेकर भी अपनी चिंता व्यक्त की है।

उभरती हुई दोनों अर्थव्यवस्थाओं के बीच व्यापार में लगातार इजाफा हो रहा है और इस व्यापार को लगभग 60 अरब डॉलर तक पहुंचाने का लक्ष्य है। हालांकि दोनों देशों के बीच व्यापार चीन के पक्ष में ज्यादा है क्योंकि भारत की दवाओं और चिकित्सा सेवाओं की चीन तक पहुंच नहीं है।

सूत्रों के मुताबिक भारत, चीन पर इस बात का लगातार दबाव डाल रहा है कि उसे चीन में मुक्त व्यापार के लिए सुविधा दी जाए, और उसे आश्वासन दिया गया है कि उसकी इस मांग पर विचार किया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:चीनी प्रधानमंत्री जियाबाओ और मनमोहन में अहम मुद्दों पर बैठक