DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शामलाजी फेस्टिवल शामलाजी (गुजरात)/ 17-21 नवम्बर, 2010, आदिवासियों का मुख्य त्योहार

शामलाजी फेस्टिवल शामलाजी (गुजरात)/ 17-21 नवम्बर, 2010, आदिवासियों का मुख्य त्योहार

वाउथा फेस्टिवल, वाउथा(गुजरात)/ 20-22 नवम्बर, 2010

गुजरात राज्य में धार्मिक उत्सवों को मनाने एवं इस अवसर पर आयोजित होने वाले मेलों में जो आस्था, उत्साह, उमंग एवं जोश देखने को मिलता है, वह अन्यत्र दुर्लभ है। विशेषकर यहां के आदिवासी क्षेत्र के लोगों की बात करें तो इस मौके पर अपनी पारंपरिक वेशभूषा में सजधज कर मेले में आने की खुशी देखते ही बनती है। गुजरात की राजधानी अहमदाबाद से 127 किलोमीटर की दूरी पर स्थित शामलाजी नामक स्थान पर लगने वाला यह मेला कार्तिक पूर्णिमा के शुभ अवसर पर लगने वाला ऐसा मेला है, जिसमें भाग लेने बनासकांठा तथा साबरकांठा क्षेत्र से ही नहीं, राज्य के दूर-दराज क्षेत्रों, यहां तक कि राजस्थान से भी काफी संख्या में यात्री आते हैं। मंदिरों के शहर के नाम से विख्यात शामलाजी यहां के निवासियों की आस्था का केन्द्र है। श्रद्धालुओं द्वारा झंडों को उठाये, जत्थों में भजन-कीर्तन करते हुए मंदिर पहुंचना देखते ही बनता है। हजारों की संख्या में लोग यहां के पवित्र सरोवर में स्नान कर खुद को धन्य मानते हैं। यहां के आदिवासी भील तथा गरसिया जाति के लोगों का यह मुख्य उत्सव है। इस अवसर पर श्रद्धालु इस क्षेत्र के लिए प्रसिद्ध टैराकोटा आर्ट की बनी हुई वस्तुओं को अपने आराध्य देवी के मंदिर में श्रद्धापूर्वक चढ़ाते हैं, जिनमें मुख्य रूप से घोड़ों अथवा अन्य जानवरों की बनी मूर्तियां होती हैं।
गुजरात के प्रसिद्ध हैंडीक्राफ्ट की वस्तुओं में बीडवर्क, टैरी कोटा, वुडकारविंग, सिल्वर वेयर, मेटल वर्क तथा स्टोन वर्क की वस्तुओं से सजे बाजारों की रौनक देखते ही बनती है। दूर-दराज क्षेत्रों से आये श्रद्धालुओं एवं सैलानियों के लिए अपनी मनपसंद वस्तुओं को खरीदने का एक यादगार अवसर होता है। बाजारों की रौनक के अलावा मनोरंजन के साधन भी उपलब्ध होते हैं। सांस्कृतिक कार्यक्रमों में लोक कलाकारों द्वारा गीत एवं संगीत के कार्यक्रम तथा आदिवासियों के नृत्य भी सैलानियों के आकर्षण का केंद्र होते हैं।               

कैसे पहुंचें

वायु मार्ग- निकटतम हवाई अड्डा अहमदाबाद 127 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

रेलमार्ग- निकटतम रेलवे स्टेशन हिम्मतनगर 47 किलोमीटर दूर है।

सड़क मार्ग- राज्य के प्रमुख शहरों से सड़क मार्ग द्वारा भी पहुंचा जा सकता है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आदिवासियों का मुख्य त्योहार