DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कांट्रैक्ट भरने से पारा शिक्षकों का इंकार

पारा शिक्षक ने कांट्रैक्ट भरने से साफ मना कर दिया है। शिक्षा विभाग के इस फरमान को नहीं मानने के लिए सहयोगी शिक्षामित्र पारा शिक्षक संघ ने आह्वान किया है। अध्यक्ष विनोद तिवारी ने कहा कि विभाग इसके माध्यम से शिक्षकों को हटाने की साजिश कर रहा है।ड्ढr शिक्षा विभाग ने कार्यरत पारा शिक्षकों से नियमानुसार एक साल का कांट्रैक्ट करने का आदेश दिया था। कार्य को देखते हुए उनका कांट्रैक्ट रिन्यूवल होता, लेकिन पारा शिक्षकों ने इस संविदा को भरने से ही इंकार कर दिया है। इसका विरोध भी होने लगा है।ड्ढr अध्यक्ष श्री तिवारी ने कहा कि संथाल परगना प्रमंडल में भरवाये जा रहे फार्म में पारा शिक्षकों से स्थायी की लड़ाई नहीं लड़ने का भी जिक्र किया गया है। उन्हें स्वयंसेवी करार दिया गया है। कहा कि पारा शिक्षक फार्म नहीं भरं। जरूरत पड़ी, तो फिर आंदोलन होगा।ड्ढr हड़ताल पर फैसला फरवरी में : योगेंदड्र्ढr रांची। राज्य में राष्ट्रपति शासन लगने के बाद शिक्षक फिलहाल वेट एंड वाच की स्थिति में आने लगे हैं। झारखंड राज्य प्राथमिक शिक्षक संघ के महासचिव योगेंद्र तिवारी ने कहा है कि अगर 15 दिन में राज्यपाल शिक्षक हित में कार्रवाई नहीं करते हैं, तो हड़ताल पर निर्णय होगा। इसे लेकर बैठक फरवरी के दूसर हफ्ते में होगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कांट्रैक्ट भरने से पारा शिक्षकों का इंकार