DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दीनदयाल में एड्स के मुफ्त इलाज के सेंटर का प्रस्ताव

पांडेयपुर स्थित दीनदयाल अस्पताल में एड्स रोगियों के मुफ्त परीक्षण व उपचार के लिए एआरटी सेंटर (एंटी रेट्रोवायरल थिरेपी) खोलने का प्रस्ताव दिया गया है। इस बारे में बुधवार को नेशनल एड्स कंट्रोल ऑर्गनाइ•ोशन (नाको) की संयुक्त निदेशक डॉ.जी. कुमारी ने स्थानीय अफसरों के साथ चिकित्सालय में बैठक कर विचार-विमर्श किया। उम्मीद की जा रही है कि जल्द ही इस सेंटर काम करना शुरू कर देगा। गौरतलब है कि जागरूकता के अभाव में भारत के कुल एड्स रोगियों में से 15 फीसदी भी अपना इलाज नहीं कराते।
विभिन्न स्तर पर हुए अध्ययनों के मुताबिक सिर्फ भारत में ही करीब 23 लाख एचआईवी संक्रमित रोगी हैं। उनमें से मात्र 3 लाख 22 हजार 251 लोग ही इलाज करा रहे हैं। जानकारों की मानें तो समाज में फैली भ्रांतियों के चलते एड़स रोगी अपनी पहचान छुपाते हैं। इस कारण काफी संख्या में मरीज अपना उपचार करवाने से हिचकते हैं। इधर, वर्तमान में पूर्वाचल समेत बिहार व झारखंड से लोग बीएचयू एआरटी सेंटर में आते हैं। इस कारण अधिक से अधिक एड्स पीड़ितों को इलाज मुहैया करवाने के उद्देश्य से दीनदयाल अस्पताल में एआरटी सेंटर खोलने का प्रस्ताव एक महत्वपूर्ण कदम है।
दीनदयाल में आज हुई बैठक में अस्पताल के सीएमएस डॉ. अनिल ओहरी, बीएचयू एआरटी सेंटर प्रभारी प्रो. श्याम सुंदर व डॉ. जया तपादार की प्रमुख उपस्थिति रही। इस मौके पर एआरटी सेंटर के लिए स्टाफ, लैब व सीडी-फोर काउंट मशीन समेत आवश्यक उपकरणों के अलग इंताजाम के बारे में प्रस्ताव दिये गये।

देश में एचआईवी संक्रमित : करीब 23 लाख
इलाज कराते हैं : तीन लाख सवा 22 हजार

‘दीनदयाल में एआरटी सेंटर खोलने के लिए चिकित्सक व काउंसलर समेत कुछ कर्मचारियों की तैनाती संविदा के आधार पर करने का विचार है। नाको की जेडी डॉ. जी. कुमारी ने सभी बिंदुओं पर सहमति संग जल्द ही कार्यवाही शुरू करने का भरोसा दिया है।’
- डॉ. अनिल ओहरी, सीएमएस, दीनदयाल चिकित्सालय

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दीनदयाल में एड्स के मुफ्त इलाज के सेंटर का प्रस्ताव