DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दिल ही नहीं, दिमाग भी फरमाता है इश्क

दिल ही नहीं, दिमाग भी फरमाता है इश्क

प्यार में अपने हमदम को दिल देने को तो कुबूल करते हैं आप, लेकिन क्या आपको मालूम है कि आपकी महबूबा पर न केवल आपका दिल बल्कि आपका दिमाग भी लट्टू होता है।

साइराक्यूज विश्वविद्यालय के मुताबिक, किसी के साथ प्यार में डूबने में न केवल दिल, बल्कि दिमाग भी मोहब्बत के सागर में जमकर गोते लगाता है। अनुसंधानकर्ताओं ने प्यार के संदर्भ में दिमाग का अध्ययन किया और पाया कि प्यार जगाने में दिमाग का 12 हिस्सा साथ मिलकर भाग लेता है।

अनुसंधान के अगुवा स्टेफनी ओर्टिग ने बताया कि इन खोजों से साबित होता है प्यार में डूबने में सेंकड का केवल पांचवा हिस्सा लगता है और आप इश्क में गिरफ्तार हो जाते हैं। उन्होंने कहा कि एक वैज्ञानिक के तौर पर मैं इसे कुछ तर्क देना चाहती थी और देखना चाहती थी कि क्या दिमाग में प्यार बसता है।

दल ने पाया कि जब कोई व्यक्ति प्यार करता है तो उसके दिमाग के विभिन्न हिस्से डोपामिन, लव हार्मोन यानि ओक्सीटोसिन व एड्रेनलिन जैसे रसायन का स्राव करता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दिल ही नहीं, दिमाग भी फरमाता है इश्क