अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डीयू कोर्स/एमएचआरओडी, मानव संसाधन में हासिल करें प्रबंधन की दक्षता

डीयू कोर्स/एमएचआरओडी, मानव संसाधन में हासिल करें प्रबंधन की दक्षता

दिल्ली विश्वविद्यालय में कई ऐसे कोर्स शुरू किए गए हैं, जो बाजार की मांग के हिसाब से डिजाइन किए गए हैं। मास्टर ऑफ ह्यूमन रिसोर्स एंड ऑर्गनाइजेशनल डेवलपमेंट एक ऐसा ही कोर्स है, जो एचआर प्रबंधन की जरूरतों को पूरा करता है। ध्यान रहे इसमें कैट स्कोर के माध्यम से ही एडमिशन लिया जा सकता है।

कॉरपोरेट व उद्योग जगत में आज मानव संसाधन की जरूरतों को पूरी करने के लिए कुशल कामगार तैयार करना एक चुनौतीपूर्ण काम है। बाजार में युवाओं की भीड़ तो है, पर उनमें ऐसी दक्षता नहीं, जो प्रबंधन के कामों को बेहतर तरीके से निपटा सकें, उन्हें सफल बना सकें। ऐसा करने के लिए विशेष हुनर की जरूरत पड़ती है। बाजार में ऐसे युवाओं की मांग को देखते हुए ही विश्वविद्यालयों में मास्टर ऑफ ह्यूमन रिसोर्स एंड ऑर्गनाइजेशनल डेवलपमेंट (एमएचआरओडी) का कोर्स तैयार किया गया है। इस कड़ी में दिल्ली विश्वविद्यालय के कॉमर्स विभाग के तहत डी स्कूल भी छात्रों को ह्यूमन रिसोर्स मैनेजमेंट एंड ऑर्गनाइजेशनल डेवलपमेंट के बारे में खास तौर पर प्रशिक्षित करता है।

कॉरपोरेट जगत को चलाने व नियंत्रण करने की रणनीति का मामला हो या उदारीकरण के दौर में भारतीय अर्थव्यवस्था को आगे ले जाना का, यह कोर्स युवाओं को अहम रोल निभाने के लिए तैयार करता है। भारतीय अर्थव्यवस्था की चुनौतियां व विश्व व्यापार में बदलती भूमिका में काम करने के लिए यह कोर्स हर साल युवा लड़के-लड़कियों की एक टीम तैयार करता है। प्रशिक्षित छात्रों की इस टीम को कंपनियां प्लेसमेंट के जरिए हाथों हाथ ले जाती हैं। उन्हें बेहतर पैकेज देकर अलग-अलग जगहों पर काम के अवसर मुहैया कराती हैं।

इस कोर्स में दाखिले के लिए आवेदन की प्रक्रिया जारी है। आखिरी तारीख 27 जनवरी है, लेकिन ध्यान रहे, आवेदन के साथ ही इंडियन इंस्टीटय़ूट ऑफ मैनेजमेंट द्वारा आयोजित कैट की परीक्षा में भी छात्र का शामिल होना अनिवार्य है।

कोर्स की रूपरेखा

दो साल का यह कोर्स चार सेमेस्टरों में बंटा हुआ है। इसके तहत छात्रों को अठाइस पेपर पढ़ने होते हैं। पहले सेमेस्टर में मैनेजमेंट की अवधारणा व व्यवहार, मानव संसाधन प्रबंधन, मैनेजमेंट ऑफ इंडस्ट्रियल रिलेशनशिप, बिजनेस एंड एथिकल वैल्यू, मैनेजमेंट अकाउंटिंग, बिजनेस स्टेटिस्टिक्स एंड रिसर्च मेथडलॉजी, कंप्यूटर एप्लिकेशन के बारे में बताया जाता है।

दूसरे सेमेस्टर में एचआरडी के अलावा ऑर्गनाइजेशनल व्यवहार, ऑर्गनाइजेशनल विकास, बिजनेस एनवायरमेंट की जानकारी दी जाती है। इसमें औद्योगिक रिलेशन लॉ, इकोनॉमिक्स और ह्यूमन कैपिटल के अलग-अलग पहलुओं से रूबरू कराया जाता है।
तीसरे सेमेस्टर में एचआर की प्लानिंग व सेलेक्शन प्रक्रिया, प्रशिक्षण और विकास, क्षतिपूर्ति प्रबंधन, ऑर्गनाइजेशनल साइकोलॉजी, मैनेजमेंट इंफॉर्मेशन सिस्टम व ट्रेनिंग रिपोर्ट का पाठ पढाया जाता है। आखिरी सेमेस्टर में मैनेजमेंट ऑफ टांसफॉर्मेशन, क्रॉस कल्चरल मैनेजमेंट, रणनीति प्रबंधन, फाइनेंस फॉर डिसिजन मेकिंग, मार्केटिंग की अवधारणा व सिद्धांत के अलावा सशक्तिकरण व हिस्सेदारी प्रबंधन की शिक्षा दी जाती है। इस पाठय़क्रम के जरिए उनमें एक कुशल एचआर प्रबंधक व ऑर्गनाइजेशनल डेवलपमेंट के गुणों की परख की जाती है। छात्रों को कोर्स के दौरान आठ सप्ताह की समर इंटर्नशिप व इंडस्ट्रियल प्रोजेक्ट, डिजर्टेशन का काम भी दिया जाता है।

दाखिले की प्रक्रिया वाया कैट

इसके लिए अलग से कॉमन प्रवेश परीक्षा आयोजित करने की बजाय कॉमर्स विभाग कैट की परीक्षा से ही छात्रों का चयन करेगा। कैट में मिले स्कोर के आधार पर छात्रों को साक्षात्कार और समूह चर्चा के लिए बुलाया जाएगा। समूह चर्चा में किसी समसामयिक टॉपिक व मामले पर आपकी जानकारी, उसके मूल्यांकन की क्षमता व अभिव्यक्ति की परख की जाएगी। साक्षात्कार में आपके नेतृत्व गुण को भी विशेषज्ञ खास तौर पर देखते हैं। प्रोफेशनल लक्ष्य की स्पष्टता, कार्य अनुभव व आत्मविश्वास की परख की जाती है। आवेदन के लिए स्नातक में 50 फीसदी अंक होने चाहिए। बीए अंतिम वर्ष के छात्र भी परीक्षा में बैठ सकते हैं, लेकिन चयन होने तक रिजल्ट जमा करना होगा। कोर्स में एमआईबी का भी विकल्प दिया गया है यानी छात्र एमएचआरओडी के साथ मास्टर ऑफ इंटरनेशनल बिजनेस में भी आवेदन कर सकता है। कोर्स में दाखिला पाने वालों को बैंक फीस के लिए लोन भी देते हैं।

प्लेसमेंट व्यवस्था

कोर्स के छात्रों की प्लेसमेंट के लिए कंपनियों से इंटरएक्शन का मौका दिया जाता है। इसके लिए प्री-प्लेमसेंट का आयोजन किया जाता है। उसके बाद आखिर में प्लेसमेंट होता है। इसमें कंपनियां अपनी जॉब के बारे में ब्यौरा पेश करती हैं। उसके बाद इच्छुक छात्रों से बायोडाटा लिया जाता है। कंपनियां ऑनलाइन टैस्ट, साक्षात्कार आदि के जरिए चयन करती हैं। प्लेसमेंट में एबीएन एमरो बैंक, आदित्य बिरला ग्रुप, अमेरिकन एक्सप्रेस बैंक, एशियन पेंट, फिक्की व विप्रो जैसी कई नामचीन कंपनियां आती हैं।

क्या कहते हैं विशेषज्ञ

दिल्ली विश्वविद्यालय के समकुलपति प्रो. दिनेश सिंह कहते हैं, पिछले 16 वर्षों से चल रहा यह कोर्स आज की प्रबंधकीय जरूरतों को ध्यान में रख कर तैयार किया गया है। वैश्विक परिदृश्य पर आ रही चुनौतियों का सामना करने के लिए यह छात्रों को विशेष रूप से दक्ष करता है। कॉमर्स विभाग के प्रमुख प्रो. केवी भानू मूर्ति इस कोर्स को बिजनेस जगत को नेतृत्व प्रदान करने वाला मानते हैं। इनके मुताबिक प्रबंधकीय क्षमता से लैस होकर छात्र बिजनेस जगत को एक नया आयाम प्रदान करते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:डीयू कोर्स/एमएचआरओडी, मानव संसाधन में हासिल करें प्रबंधन की दक्षता