अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राजनेताओं और सीनियर आईएएस तक थी स्वामी की पहुंच

स्वामी प्रणबानंद सेवा मिशन के संचालक स्वामी चरणानंद महाराज उर्फ बबलू महाराज की पहुंच काफी ऊपर तक थी। उसकी पहुंच का अंदाजा इसी तथ्य से लगाया जा सकता है कि जब उसने 2006 में पाटजोर में अपने मिशन की स्थापना की, तो उसने तत्कालीन मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा के हाथों उसका उद्घाटन कराया था।

इस मिशन में कई नामी राजनेताओं का पदार्पण हो चुका है। न केवल राजनेता, बल्कि कई सीनियर आईएएस अधिकारियों तक अपनी पहुंच होने का दावा स्वामी चरणानंद करता था। राजनेताओं और सीनियर आईएएस अधिकारियों तक उसकी पहुंच का उसे फायदा भी मिलता रहा है।

शिक्षा विभाग में उसकी विशेष चलती थी। पाटजोर में जिस जमीन पर उसने मिशन का विशाल भवन बनवाया है उस जमीन को मिशन के नाम कराने में भी उसने अपनी पहुंच का इस्तेमाल किया था। स्वामीजी चरणानंद पूर्व में भारत सेवाश्रम संघ पाथरा का संचालक था।

2002 में स्वामी पर कई प्रकार के आरोप लगे थे जिसे पंचायती कर सुलझाया गया था। भारत सेवाश्रम संघ प्रबंधन ने उसे किसी दूसरे आश्रम में भेजने की कोशिश की थी, पर वह दूसरे आश्रम में जाने से मुकर गया था। पाटजोर गांव में स्वामी प्रणवानंद मिशन का स्थापना कर वहीं से विभिन्न सामाजिक कार्यो में जुट गया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:राजनेताओं और सीनियर आईएएस तक थी स्वामी की पहुंच