DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारत व चीन के बीच गरमाया स्टेपल वीजा का मुद्दा

भारत व चीन के बीच गरमाया स्टेपल वीजा का मुद्दा

दो पड़ोसी देशों के प्रधानमंत्रियों के बीच बैठक होने से महज तीन दिन पहले चीन ने मंगलवार को भारत को एक बार फिर यह कहते हुए उकसा दिया कि वह जम्मू कश्मीर की जनता को स्टेपल वीजा जारी करने के मुद्दे पर अपने रुख में नरमी नहीं लाएगा।

चीन के इस रुख के बाद भारत को यह स्पष्ट करने के लिए बाध्य होना पड़ा कि उसे एकीकृत नीति की अपेक्षा है। चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता मा झाओशु ने भारत की इस बात को खारिज कर दिया कि बीजिंग को कश्मीर के बारे में नई दिल्ली की संवेदनशीलता का सम्मान करना चाहिए। झाओशु ने कहा कि बीजिंग अपनी नीति पर पुनर्विचार नहीं कर रहा है।

उन्होंने बीजिंग में कहा कि भारत के साथ चीन के दोस्ताना संबंध हैं, लेकिन जम्मू कश्मीर के वाशिंदों के लिए नत्थी किए गए कागज पर वीजा जारी करने की नीति में कोई बदलाव नहीं होगा। इन टिप्पणियों के बाद भारत को यह कहने को मजबूर होना पड़ा कि वह चाहता है कि चीन सभी भारतीयों को वीजा जारी करने के लिए एक समान नीति अपनाए।

उधर, प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह मलेशिया की अपनी यात्रा के लिए कुआलालंपुर पहुंच गए। कुआलालंपुर में सूत्रों ने कहा कि जम्मू कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है और उसे अपेक्षा है कि चीन सभी भारतीयों को वीजा देने के लिए एक समान नीति अपनाएगा, फिर चाहे आवेदक किसी भी जाति या स्थान का हो।

प्रधानमंत्री के साथ मौजूद सूत्रों ने कहा कि हमारा रुख काफी स्पष्ट है और चीनी मित्रों को इस बारे में साफ शब्दों में अवगत करा दिया गया है। इस विवादास्पद मुद्दे पर दोनों देशों के बीच बयानबाजी सिंह और चीनी प्रधानमंत्री वेन जियाबाओ की हनोई में पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन के इतर होने वाली मुलाकात से तीन दिन पहले हुई है। संभावना है कि दोनों प्रधानमंत्रियों के बीच बैठक के दौरान यह मुद्दा उठेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:भारत व चीन के बीच गरमाया स्टेपल वीजा का मुद्दा