अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गिलानी और अरुंधति की टिप्पणियां दुर्भाग्यपूर्ण: मोइली

गिलानी और अरुंधति की टिप्पणियां दुर्भाग्यपूर्ण: मोइली

हुर्रियत के कट्टरपंथी नेता सैयद अली शाह गिलानी और लेखिका अरुंधति राय द्वारा यहां एक सेमिनार में की गई टिप्पणियों को अत्यधिक दुर्भाग्यपूर्ण करार देते हुए कानून मंत्री एम वीरप्पा मोइली ने मंगलवार को कहा कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता लोगों की देशभक्ति की भावनाओं पर प्रहार नहीं कर सकती।

उन्होंने यहां कहा कि हां अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता है़ लेकिन यह लोगों की देशभक्ति की भावनाओं पर प्रहार नहीं कर सकती। टिप्पणियों को अत्यधिक दुर्भाग्यपूर्ण करार देते हुए कानून मंत्री ने कहा कि भारत में रामायण के समय से ही ऐसे लोग रहे हैं जो किसी एक या दूसरे नजरिए का समर्थन करते हैं।

भाजपा के इस आरोप पर कि सरकार घटनाक्रम पर खामोश रहे मोइली ने कहा कि राजनीति को उन वक्तव्यों से नहीं जोड़ा जाना चाहिए जो देशद्रोह से जुड़े हों। यह पूछे जाने पर कि क्या उनके मंत्रालय को गृह मंत्रालय से कोई आग्रह मिला है जिसमें इस बारे में राय मांगी गई हो कि क्या गिलानी और अरुंधति के खिलाफ देशद्रोह का मामला दर्ज किया जा सकता है, के जवाब में कानून मंत्री ने कहा कि मैं तीन दिन से बाहर था़, मैंने अब तक फाइल नहीं देखी है।

अरुंधति की टिप्पणियों को लेकर भाजपा ने कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की थी और इसके नेता अरुण जेटली ने आरोप लगाया था कि जब कई अलगाववादी समूह देशद्रोह भड़काने के लिए एक सम्मेलन में एकत्र हुए तो सरकार ने इसे अनदेखा कर दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गिलानी और अरुंधति की टिप्पणियां दुर्भाग्यपूर्ण: मोइली