अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

किसानों को इंटरनेट से दी जाएगी कृषि संबंधी जानकारी: निशंक

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा है कि पर्वतीय राज्य के दूर दराज में रह रहे किसानों को भी अब इंटरनेट के माध्यम से खेती के बारे में जानकारी दी जायेगी और इसके लिये राज्य मुख्यालय में किसान भवन बनाया जायेगा। निशंक किसान भवन का शिलान्यास करने के बाद लोगों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि बनने वाला किसान भवन, प्रदेश ही नहीं बल्कि प्रदेश से बाहर के किसानों के लिये भी आदर्श केन्द्र होगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तराखंड कृषि के क्षेत्र में अन्य प्रदेशों से अलग है। यहां का मौसम शंकर किस्म बीज के उत्पादन के लिये अनुकूल है। उन्होंने बताया कि किसानों की आर्थिक स्थिति को सुधारने के लिये कषि को एक बेहतर माध्यम बनाने हेतु सम्भावनाओं की तलाश की जा रही है इसीलिये उत्तराखंड सरकार द्वारा फूलों की खेती, सगन्ध पौध उत्पादन तथा औद्योगिक विकास की संभावनाओं पर अभिनव प्रयोग किया जा रहा है।

निशंक ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा जड़ी बूटी उत्पादन के कार्य में 50 हजार किसानों को जोड़ने का लक्ष्य रखा गया है। वर्तमान में 15 हजार किसानों को अब तक इससे जोड़ा जा चुका है। उन्होंने बताया कि राज्य में वर्तमान में किसानों को फूलों की खेती के माध्यम से 150 करोड़ रूपये की आमदनी हो रही है। निशंक ने कहा कि चीन से लगभग 62 प्रतिशत रेशम का आयात किया जा रहा है। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिया कि रेशम उत्पादन के लिये यहां के किसानों को प्रोत्साहित किया जाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि देश की सबसे बड़ी फार्मा सिटी देहरादून में है जहां डेढ हजार करोड़ रूपये की जड़ी बूटी का प्रत्येक वर्ष इस्तेमाल किया जाता है। उन्होंने बताया कि राज्य सरकार द्वारा मुख्यमंत्री संरक्षित खेती के माध्यम से 50 प्रतिशत अनुदान देकर कृषि योजनायें संचालित की जा रही हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:किसानों को इंटरनेट से दी जाएगी कृषि संबंधी जानकारी: निशंक