अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वचरुअल क्लारूम से लैस होंगे कॉलेज

सीसीएसयू हर जनपद में दो कॉलेजों को नोडल सेंटर के तौर पर विकसित करेगी। वेस्ट यूपी के सात जनपदों में बनाए जाने वाले 14 सेंटर कंप्यूटर, कैमरों और इंटरनेट से लैस होंगे। नेशनल नॉलेज नेटवर्क प्रोविजन के आधार पर बनाए जाने वाले इन केंद्रों में वचरुअल क्लासरूम की सुविधा भी उपलब्ध कराई जाएगी। शनिवार को सीसीएसयू की कार्य परिषद की बैठक में नोडल सेंटर बनाए जाने के लिए 25 लाख रुपये बजट आवंटन की संस्तुति कर दी गई है।


अहम यह है कि हर नोडल सेंटर के अंतर्गत अलग-अलग संख्या में कॉलेजों को रखा जाएगा। संबंधित कॉलेज इन्हीं नोडल सेंटरों पर जाकर अपने कॉलेजों से जुड़े तमाम डाटा को ऑनलाइन कर सकेंगे। खास बात यह है कि आधुनिकतम तकनीक से लैस यह नोडल सेंटर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सीधे विवि से कनेक्ट होगा। वित्त समिति के इस प्रस्ताव को पास करते हुए कार्य परिषद ने कुलसचिव और वित्त नियंत्रक से नोडल सेंटर के चुनावों की प्रक्रिया शुरू करने को कहा है। माना जा रहा है कि इंटरनेट व अन्य सुविधाओं से वंचित वेस्ट यूपी के ग्रामीण क्षेत्रों के कॉलेजों के लिए नए ऑनलाइन नोडल सेंटर बड़ी राहत के तौर पर सामने आएंगे। सीसीएसयू में परीक्षा प्रक्रियाओं समेत अन्य सिस्टमों में लगातार बढ़ रही इंटरनेट व ऑनलाइन प्रक्रियाओं की वजह से इन नोडल सेंटरों को खासा महत्वपूर्ण माना जा रहा है।

वचरुअल क्लास रूम
- 5 कंप्यूटर
- 5 वेबकैमरे
- एक एलसीडी प्रोजेक्टर
- इंटरनेट कनेक्शन

ऑनलाइन तकनीक के इस्तेमाल में फिर अव्वल होगा विवि
देश में पहली बार 70 हजार छात्रों का एक साथ पर्सनल वेबपेज लॉन्च करने वाले सीसीएसयू में लगातार इंटरनेट आधारित ऑनलाइन तकनीकों का इस्तेमाल बढ़ता जा रहा है। इस बार दाखिलों के लिए पहली बार शुरू हुई ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया से पहले भी परीक्षा फॉर्म भरने की प्रक्रिया को ऑनलाइन किया जा चुका है। अहम यह है कि सीसीएसयू ऑनलाइन तकनीक के इस्तेमाल में देश के बेहतर विवि से शामिल होने की कतार में लगातार आगे बढ़ रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:वचरुअल क्लारूम से लैस होंगे कॉलेज