DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारत के गुरुदत्त सोंधी हैं एशियाई खेलों के जनक

पिछले लगभग 60 साल से ओलंपिक के बाद दुनिया के सबसे बड़े खेल समारोह रहे एशियाई खेलों में भले ही चीन, जापान या कोरिया का दबदबा रहा हो लेकिन इस महाद्वीपीय खेल महाकुंभ के जनक भारत के शिक्षाविद और खेल प्रशासक गुरुदत्त सोंधी थे।

लाहौर गवर्नमेंट कालेज में प्राचार्य रहे सोंधी ने सबसे पहले ओलंपिक खेलों की तर्ज पर एशियाई खेलों के आयोजन का विचार रखा था। इसके लिए बाकायदा उन्होंने दिल्ली के पटियाला हाउस में 12 और 13 फरवरी 1949 को एशिया के छह देशों के प्रतिनिधियों की बैठक की अध्यक्षता की थी जिसमें एक साल बाद यानी 1950 से ओलंपिक की तरह हर चार साल में एशियाई खेल आयोजित करने की योजना तैयार की गई थी।

एशियाई खेलों की यह शुरुआत हालांकि प्रथम विश्वयुद्ध से पहले 1912 में हो गई थी लेकिन तब इन्हें सुदूर पूर्व खेलों के नाम से जाना जाता था और इसमें जापान, फिलीपीन्स और चीन भाग लेते थे। इसके पहले खेल 1913 में मनीला में हुए तथा यह 1934 तक चलते रहे।

सुदूर पूर्व खेलों की तर्ज पर ही भारत, श्रीलंका (सिलोन) और अफगानिस्तान ने 1934 में दिल्ली में पश्चिमी एशियाई खेलों का आयोजन किया था लेकिन दूसरे विश्व युद्ध के कारण यह आगे नहीं हो पाए थे। विश्व युद्ध समाप्त होने के बाद जब 1948 में लंदन में ओलंपिक खेल आयोजित किए गए तो चीन और फिलीपीन्स के खिलाड़ियों ने फिर से सुदूर पूर्व खेलों की शुरुआत पर मनन किया। सोंधी ने सबसे पहले यहीं पर एशियाई खेलों के आयोजन का विचार रखा था जिसमें सारे एशिया महाद्वीप के देश भाग लेंगे।

सोंधी ने इसके बाद अपने प्रयास जारी रखे और उनकी कोशिशों से ही फरवरी 1949 में दिल्ली में आयोजित बैठक में एशियाई एथलेटिक महासंघ का गठन किया गया। इसे बाद में एशियाई खेल महासंघ (एजीएफ) नाम दिया गया और 1982 तक के सभी खेल एजीएफ ने ही आयोजित किए। इसके बाद एशियाई ओलंपिक परिषद (ओसीए) ने यह जिम्मा संभाल लिया।

फरवरी की बैठक में ही पहले एशियाई खेल दिल्ली में आयोजित करने का फैसला किया गया था लेकिन तब तैयारियों में देरी के कारण इन्हें टाल दिया गया और आखिर में चार से 11 मार्च 1951 में इनका सफल आयोजन किया गया। इसमें 11 देशों ने भाग लिया था। इसके बाद हालांकि दूसरे एशियाई खेल तीन साल बाद 1954 में मनीला में आयोजित किए गए लेकिन बाद में चार साल का क्रम बना रहा।

थाइलैंड की राजधानी बैकाक में अब तक सर्वाधिक चार बार एशियाई खेलों की मेजबानी की है। उसने 1966 के बाद 1970 में भी एशियाई खेलों की सफल मेजबानी की थी। इसके अलावा उसने 1978 और 1998 में भी खेलों का आयोजन किया। नई दिल्ली ने दो बार खेलों की मेजबानी की है। पहले के बाद 1982 में नौवें एशियाई 1982 में दिल्ली में आयोजित किए गए थे।

अब 16वें एशियाई खेल 12 नवंबर से चीन के ग्वांग्झू शहर में होंगे जबकि इसके चार साल दक्षिण कोरिया के इंचियोन में दुनिया के सबसे बड़े महाद्वीप के खिलाड़ियों का जमघट जमेगा।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:भारत के गुरुदत्त सोंधी हैं एशियाई खेलों के जनक