अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एशियाड में भी स्वर्णिम सफर जारी रखना चाहूंगा: सुरंजय

एशियाड में भी स्वर्णिम सफर जारी रखना चाहूंगा: सुरंजय

पिछले डेढ़ साल में सात स्वर्ण पदक अपनी झोली में डालकर दर्शकों के चहेते बने मुक्केबाज सुरंजय सिंह ने भरोसा जताते हुए कहा कि अपने पहले एशियाई खेलों में भी वह इसी लय को जारी रखते हुए देश को सोने का तमगा दिलाने की कोशिश करेंगे।

छोटा टायसन के नाम से मशहूर यह मणिपुरी पिछले दो साल से अंतरराष्ट्रीय स्तर के टूर्नामेंटों में शानदार प्रदर्शन कर प्रशंसकों के दिलों में अपनी खास जगह बना चुका है। हाल में राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाले सुरंजय (52 किग्रा) इस बात से पूरी तरह वाफिक हैं कि ग्वांग्झू में 12 नवंबर से शुरू होने वाले एशियाड में उन्हें मेजबान देश चीन के अलावा कई एशियाई देशों के मुक्केबाजों से कड़ी चुनौती मिलेगी।

सुरंजय ने कहा कि मैं जानता हूं कि एशियाई खेलों में सफर इतना आसान नहीं होगा लेकिन हम राष्ट्रमंडल खेलों के साथ एशियाड की तैयारियों में जुटे हुए थे और मुझे पूरा भरोसा है कि मैं देश को निराश नहीं करूंगा। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर स्वर्णिम सफर का राज पूछने पर इस नाटे कद के मुक्केबाज ने कहा कि कोई राज नहीं हैं, लेकिन मैं हर बाउट को फाइनल की तरह लेता हूं और सिर्फ एक ही बाउट पर ध्यान लगाता हूं। मैं विपक्षी को देखकर तभी अपनी रणनीति तैयार करता हूं। लेकिन अंतरराष्ट्रीय स्तर के दिग्गज मुक्केबाजों की वीडियो देखकर मैं उनके स्टाइल से काफी कुछ सीख रहा हूं।
 
सुरंजय ने कहा कि वह धीरे-धीरे 2012 लंदन ओलंपिक के लक्ष्य की ओर बढ़ना चाहते हैं जिसमें अंतरराष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिताओं का शानदार प्रदर्शन काफी महत्वपूर्ण साबित होगा। उन्होंने कहा कि मेरा लक्ष्य 2012 लंदन ओलंपिक हैं, जिसके लिए मैं जी जान से जुटा हूं और उससे पहले के टूर्नामेंटों का प्रदर्शन इसमें काफी अहम होता है। अभी फिलहाल एशियाई खेलों पर सारा ध्यान लगा है जो भारत के दृष्टिकोण से काफी महत्वपूर्ण हैं।
 
उन्हें हालांकि इस बात का भी मलाल है कि वह राष्ट्रमंडल खेलों की स्पर्धा के फाइनल में विपक्षी मुक्केबाज के रिंग में नहीं उतरने के कारण पदक जीते। उन्होंने कहा कि मैं उससे बाउट खेलकर जीतना चाहता था क्योंकि इससे मुझे अंदर से भी जीत का अहसास होता। मैं खुद को चुनौतियां देकर ओलंपिक के लिए पूरी तरह से तैयार होना चाहता हूं।
 
सुरंजय इस बात से भी काफी खुश हैं कि उनके राज्य मणिपुर से काफी खिलाड़ी देश का नाम ऊंचा कर रहे हैं जिसमें पांच बार की महिला विश्व चैम्पियन एमसी मैरीकाम भी शामिल हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एशियाड में भी स्वर्णिम सफर जारी रखना चाहूंगा: सुरंजय