DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कुर्सी मोह नहीं छोड़ पा रहे यूपीए नेता

झारखंड यूपीए स्टीयरिंग कमेटी के चेयरमैन मधु कोड़ा ने कहा है कि झारखंड में यूपीए के घटक दलों के बीच संवादहीनता और समन्वय के अभाव में सरकार का गठन नहीं हो रहा है। झामुमो सुप्रीमो शिबू सोरन जिद पर अड़े हैं। झामुमो यूपीए का अंग हैं। ऐसे में सरकार गठन के लिए शिबू सोरन को पहल करनी चाहिए। कोड़ा मंगलवार को सेवा विमान से रांची आने के बाद एयरपोर्ट पर पत्रकारों से बात कर रहे थे।ड्ढr उन्होंने कहा कि यूपीए का केन्द्रीय नेतृत्व सरकार गठन करने का प्रयास कर रहा है। अभी संभावनाएं समाप्त नहीं हुई हैं। दिल्ली दौरा के क्रम में राजद सुप्रीमो और रल मंत्री लालू प्रसाद और कांग्रेसी नेता अहमद पटेल से इस संबंध में विस्तार से वार्ता हुई है। विधानसभा को निलंबित किया गया है। यह लोकतांत्रिक व्यवस्था के अनुरूप किया गया है। उन्होंने कहा कि केंद्रीय नेतृत्व के निर्णय से ही एसा हुआ है। इसमें किसी की व्यक्ितगत इच्छा जसी कोई बातड्ढr नहीं है।ड्ढr अभी उम्मीदें बाकी है, फिर से होगी बात : अन्नपूर्णा रांची। राजद विधायक दल की नेता अन्नपूर्णा देवी ने कहा कि विधानसभा का निल्ांबन अस्थायी है। नयी सरकार का गठन होते ही इसे समाप्त कर दिया जायेगा। अभी टाइम है, फिर से बैठ कर बात होगी। वह मंगलवार को दिल्ली से लौटने के बाद हवाई अड्डा पर पत्रकारों से बात कर रहीं थीं। उनके साथ राजद विधायक प्रकाश राम भी दिल्ली से आये हैं।ड्ढr उन्होंने कहा कि गुरुाी के भाई की मृत्यु हो गयी है। इस कारण अभी बातचीत नहीं हो रही है। दिल्ली में उन्होंने राजद सुप्रीमो लालू यादव से मिलकर उन्हें प्रदेश के राजनीतिक गतिविधियों की जानकारी दी। कहा कि कांग्रेस, झामुमो तथा राजद मिलकर सरकार बनाने का प्रयास करंगे।ड्ढr दो-तीन दिन में सरकार बनने की संभावना : सुधीरगोविन्द पाठक जमशेदपुर झारखंड की राजनीतिक अस्थिरता दो-तीन दिनों में दूर हो जायेगी। इसके लिए दिल्ली और रांची में बैठक हो रही है। यह कहना है निर्वतामान उप मुख्य मंत्री सुधीर महतो का। वे गोपाल मैदान में हिन्दुस्तान से विशेष बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि अगर वे प्रदेश का मुख्य मंत्री बनते हैं, तो अगले वर्ष इसी मैदान में सभी के साथ चना खाऊंगा। उन्होंने कहा कि उनके मुख्यमंत्री बनने से शहर का नाम भी होगा। इस शहर के लिए यह बड़ी बात होगी। उन्होंने सरकार बनने की संभावना व्यक्त की है। उन्होंने गैर आदिवासी मुख्यमंत्री के प्रश्न पर कहा कि सबसे अधिक उनके परिवार से तीन लोगों ने शहादत दी है। अगर उनको मुख्यमंत्री बनाया जाता है, तो किसी क्यों आपत्ति होगी। सभी की सहमति से वे मुख्यमंत्री बनेंगे। उन्होंने बताया कि उड़ीसा में उनकी पार्टी के चार विधायक और एक सांसद हैं। इस बार लोकसभा और विधानसभा चुनाव झामुमो, यूपीए के साथ मिल कर लड़ेगा। उनको पूरा विश्वास है कि इससे उनकी पार्टी आठ विधानसभा और दो लोकसभा सीटों पर कब्जा कर लेगी। उड़ीसा में कुरमी को आदिवासी का दर्ज दिलाने के लिए आन्दोलन चलाया जायेगा। उड़ीसा के बारीपदा चितरौडा में विशाल टुसू मेला में मुख्य अतिथि के रूप में गये थे। वहां उन्होंने जनता से राज्यपाल भवन पर लोकतांत्रिक ढंग से एकाुट हो प्र्दशन कर हक मांगने का आह्वान किया है। उन्होंने बताया कि वे उड़ीसा में आन्दोलन की बीज डाल आये हैं।ड्ढr

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कुर्सी मोह नहीं छोड़ पा रहे यूपीए नेता