DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कॉमनवेल्थ गेम्स खत्म होते ही फिर आए जमीन पर

वैसे तो कॉमनवेल्थ गेम्स दौरान विकास की घोषणाएं शहर में पूरी नहीं हुई। लेकिन जो सुविधा इस दौरान शहर को मिलीं भी तो उन्हें भी अब वापस ले लिया गया। मसलन दिल्ली परिवहन निगम ने अपनी एसी बसों को दिल्ली से फरीदाबाद के बीच चलाया था, जिससे लोगों की राह काफी आसान हो गई थी। लेकिन अब डीटीसी ने अपनी ऐसी बसों को फरीदाबाद आने से बंद कर दिया है। लोग फिर से जमीन पर हैं और पुराने र्ढे से धक्कामुक्की सफर करने को मजबूर हो गए हैं।
सरकार ने कॉमनवेल्थ गेम्स के दौरान शहर को चमकानें और विकसित करने की अनेकों घोषणाएं की थी। जिससे शहरवासियों को काफी उम्मीद थी कि कॉमनवेल्थ गेम्स के बहाने ही सही शहर का आधारभूतढाचा व जीवन स्तर सुधर जाएगा। लोगों को काफी राहत की उम्मीद थी। लेकिन सिवाय मायूसी के शहरवासियों को विकास के काम पर कुछ खास नहीं मिला। काफी योजनाएं कागजों से नहीं निकल पाई। सड़कों की हालत नहीं सुधरी। ट्रैफिक की चाल भी सूरजकुंड रोड को छोड़कर शहर की किसी सड़क पर नहीं सुधरी। उस दौरान सड़कों के गहरे गड्ढे भी मिट्टी से भरे गए। खेलों से पहले शहर की सूरत बदलने की घोषणाएं काफूर हो गई। कामनवेल्थ गेम्स से पहले नेशनल हाइवे पर सीसीटवी कैमर लगाने सहित ट्रैफिक व्यवस्था तथा सुरक्षा की दृष्टि से पुलिस को बेहतर उपकरण मुहैया करवाने के लिए केंद्र सरकार ने हरियाणा सरकार को करीब 23 करोड़ रुपये की योजना दी थी। यह योजना कागजों से बाहर नहीं निकल पाई। सूरजकुंड क्षेत्र में करीब तीन करोड़ रुपये की लागत से कैंपिंग साइट बनाई गई। जहां एक भी पर्यटक आकर नहीं रुका। नेशनल हाइवे का श्रृंगार कर का फैसला किया गया। खराब स्ट्रीट लाइट को ठीक करना, ग्रिल पर पेंट करना, सांकेतिक बोर्ड को चमकाना, रंग रोगन कर चौराहों को चमकाने की घोषणाएं पूरी नहीं होने से शहरवासियों को मायूसी हाथ लगी।
वीके गौतम, वरिष्ठ प्रबंधक, डीटीसी: दिल्ली में ब्लू लाइन की भरपाई के मद्देनजर फरीदाबाद से अभी कुछ दिन के लिए एसी बसों को हटाया गया है। फरीदाबाद से यात्राियों की संख्या ठीक रहती हैं इसे जल्द ही पुन: शुरू किया जाएगा।
कॉमनेवेल्थ गेम्स के दौरान ये थी योजनाएं
-करीब 23 करोड़ रुपये की लागत से ट्रैफिक प्लान के तहत सीसीटीवी कैमरे लगने थे, नहीं लगे
-नेशनल हाइवे का श्रृंगार नहीं हुआ
-करीब 300 सिटी बसे चलनी थी
-डीटीसी को एसी बसे चलानी थी अब बंद कर दी
-गंदगी साफ करने को उठाए कदम नहीं रहे कारगर
-बीजिंग की तर्ज पर लाईट खराब स्ट्रीट लाइट को ठीक करना,
-ग्रिल पर पेंट करना,
-सांकेतिक बोर्ड को चमकाना,
-शहर के चौराहों का सौंदर्यीकरण

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कॉमनवेल्थ गेम्स खत्म होते ही फिर आए जमीन पर