DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इतिहास बनाने उतरेगी टीम इंडिया

इतिहास बनाने उतरेगी टीम इंडिया

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ विशाखापट्टनम में मिली धमाकेदार जीत से उत्साहित टीम इंडिया तीसरे एवं अंतिम वनडे में रविवार को जब यहां नेहरू स्टेडियम में उतरेगी तो उसका लक्ष्य टेस्ट सीरीज़ के बाद एकदिवसीय सीरीज़ में भी कंगारूओं का सूपडा साफ करना होगा।
 
भारत ने टेस्ट सीरीज़ में ऑस्ट्रेलिया को 2-0 से शिकस्त देने के बाद विशाखापट्टनम में खेले गए दूसरे वनडे में पांच विकेट से शानदार जीत दर्ज करते हुए तीन मैचों की सीरीज़ में 1-0 की अपराजेय बढ़त बना ली है। पहला वनडे बारिश के कारण रद्द हो गया था। पिछले एक दशक में यह पहला मौका है जब विश्व की नंबर एक टीम ऑस्ट्रेलिया भारत में वनडे सीरीज़ नहीं जीत पाएगी।
 
भारत के पास यह वनडे जीतकर इतिहास बनाने का मौका होगा। अगर टीम इंडिया यह वनडे जीत जाती है तो यह पहला मौका होगा जब वह टेस्ट सीरीज़ के साथ-साथ वनडे सीरीज़ में भी विश्व चैंपियन टीम के खिलाफ क्लीन स्वीप करेगी।
 
सचिन तेंदुलकर, वीरेन्द्र सहवाग, गौतम गंभीर, ज़हीर खान और हरभजन सिंह जैसे दिग्गजों के बिना खेल रही टीम इंडिया ने दूसरे वनडे में विशाल लक्ष्य का पीछा करते हुए शानदार जीत दर्ज की वह उसकी बल्लेबाजी की गहराई को दर्शाता है। विराट कोहली, युवराज सिंह और सुरेश रैना बेहतरीन फॉर्म में हैं।

नेहरू स्टेडियम मैदान में भारत ने अपने पिछले दोनों मैचों में जीत हासिल की थी और फॉर्म में लौटे युवराज का इस मैदान पर सिक्का चलता है। बाएं हाथ के इस धुरंधर बल्लेबाज़ ने यहां तीन मैचों में 47.66 के प्रभावशाली औसत से 143 रन बनाए हैं।
 
युवराज ने विशाखापट्टनम में खेले गए दूसरे वनडे में शानदार 58 रन बनाकर भारत की जीत में अहम भूमिका निभाई थी और अब फतोरदा के नेहरू स्टेडियम में भी उनसे शानदार प्रदर्शन की उम्मीद है। दूसरे वनडे में भारत की जीत के सूत्रधार विराट कोहली और सुरेश रैना से भी कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी को अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद रहेगी।
 
भारत ने इस मैदान पर छह मैच खेले हैं जिसमें से उसे तीन में हार का सामना करना पड़ा जबकि दो में उसे जीत नसीब हुई। एक मैच रद्द रहा था। भारत ने पिछले दो मैचों में क्रमश: इंग्लैंड और श्रीलंका को हराया था। भारत ने इंग्लैंड के खिलाफ मैच में छह विकेट पर 294 रन बनाए थे जो इस मैदान पर सर्वाधिक स्कोर है।
 
लेकिन टीम इंडिया की सबसे बड़ी समस्या फिलहाल गेंदबाजी को लेकर है। भारतीय गेंदबाजों को अंतिम ओवरों में रन लुटाने की अपनी आदत से बचना होगा। विशाखापट्टनम में तेज गेंदबाज आर विनय कुमार ने नौ ओवर में 71 रन लुटाए और कोई विकेट हासिल नहीं कर पाए।

जहां तक ऑस्ट्रेलिया का सवाल है तो इस मैदान पर उसने शत प्रतिशत जीत दर्ज की है। ऑस्ट्रेलिया ने इस मैदान पर 25 अक्टूबर 1989 को खेले गए पहले मैच में इंग्लैंड को 28 रन से हराया था। भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच इस मैदान में अब तक केवल एक बार छह अप्रैल 2001 को भिडंत हुई थी जिसमें कंगारू टीम ने चार विकेट से जीत दर्ज की।
 
कंगारू टीम भी अपने कई दिग्गज खिलाड़ियों के बिना खेल रही है। विशाखापट्टनम वनडे में 69 रन की पारी खेलने वाले माइक हसी की सेवाएं भी उसे मडगांव में नहीं मिलेंगी क्योंकि वह घेरलू टूर्नामेंट में खेलने के लिए स्वदेश रवाना हो चुके हैं। पेट की समस्या से जूझ रहे तेज गेंदबाज डग बोलिंगर भी ऑस्ट्रेलिया जा चुके हैं।
 
भारत की नजरें जहां क्लीन स्वीप पर लगी हुई हैं वहीं विश्व की नंबर एक टीम ऑस्ट्रेलिया विशाखापट्टनम के सदमे से उबरकर पलटवार करने की पूरी कोशिश करेगी। ऑस्ट्रेलिया का इस मैदान पर शत प्रतिशत रिकॉर्ड है और उसका पूरा प्रयास रहेगा कि यह रिकॉर्ड बना रहे तथा वह भारत को क्लीन स्वीप करने से रोक सके।
 
लेकिन गोवा में शुक्रवार को हुई भारी बारिश के भारी बारिश के कारण तीसरे वनडे के भी बारिश की भेंट चढ़ने की आशंका बढ़ गई है। गोवा में गत एक सप्ताह से ज्यादा समय के दौरान रूक-रूक कर भारी बारिश हुई जिसके कारण गोवा क्रिकेट स्टेडियम का मैदान दलदल बन गया है।
 
ग्रांउड़ान इसे खेलने लायक बनाने की कोशिश में जुटे हुए हैं। शुक्रवार को पूरे दिन बारिश हुई और शाम को तो मेघ जमकर बरसे। मौसम विभाग ने आगामी दो दिनों में और बारिश होने की संभावना जताई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:इतिहास बनाने उतरेगी टीम इंडिया