DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एशिया के सबसे बडे़ कालीन मेले की तैयारियां जोरों पर

कालीन निर्यात सम्बर्धन परिषद द्वारा वाराणसी के सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्व विद्यालय में आगामी 29 अक्टूबर से आयोजित होने वाले एशिया के सबसे बडे़ चार दिवसीय (इंडिया कार्पेट एक्सपो) की तैयारियां जोरों पर हैं।

 
भदोही कालीन के लिए पांच संस्थाओं को गुरुवार को जी आई भौगोलिक संकेतक प्रमाण पत्र मिलने के बाद यह पहला कालीन मेला है। ऑल इंडिया कारपेट मैन्युफैक्चर्स एसोसिएशन के सचिव अब्दुल हादी ने आज बताया कि भदोही कालीन को जी आई प्रमाण पत्र मिला है और इससे भारतीय कालीन की विदेशों में साख बढे़गी। इसके साथ ही बडी संख्या में विदेशी ग्राहक खरीददारी करने के लिए आएंगें।इससे न झ्रन केवल विदेशी मुद्रा की आमद बढेगी बल्कि बडी संख्या में बुनकर लाभान्वित होंगें।

उन्होंने कहा कि एशिया के सबसे बडे कालीन मेले में भाग लेने के लिए करीब 250 आयातकों की मंजूरी मिल चुकी है। उन्होंने कहा कि पूर्वी उत्तर प्रदेश संभवत देश का पहला क्षेत्र है जहां बनारसी साडी के साथ ही साथ भदोही कालीन को जी आई मिला है।

कालीन मेले में भारत के कोने कोने में बनाई जाने वाली हस्त निर्मित कालीन की प्रदर्शनी लगाई जाएगी। उन्होंने कहा कि पहली बार वाराणसी में इस कालीन मेले में नेपाल पाकिस्तान इरान तुर्की एवं चीन के निर्यातक भाग लेंगें। उन्होंने कहा कि इस अर्न्तराष्ट्रीय मंच पर कालीन आयातकों को एक ही छत के नीचे हस्त निर्मित कालीनों को देखने एवं खरीदने का अवसर मिलेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एशिया के सबसे बडे़ कालीन मेले की तैयारियां जोरों पर