अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बेमौसम बरसात से धान की खड़ी फसल को नुकसान

पंजाब में विभिन्न स्थानों पर बेमौसम की बरसात ने वहां की खड़ी फसलों को नुकसान पहुंचने की आशंका पैदा हो गई है, जिससे केंद्रीय पूल में राज्य की हिस्सेदारी कम हो सकती है। पंजाब के कृषि निदेशक बताया कि इस समय बरसात धान फसलों के लिए काफी नुकसानदेह है। इससे फसल को तो नुकसान होगा ही और साथ ही खड़ी फसलें जमीन पर बिछ जायेंगी।

बरसात के साथ ओलावष्टि ने पंजाब के प्रमुख धान उत्पादक क्षेत्र पटियाला, लुधियाना, जालंधर, रोपड़, होशियारपुर, गुरदासपुर और नवाशहर को अपनी चपेट में लिया है। कृषि निदेशक ने कहा कि पंजाब में करीब 50 प्रतिशत धान (बासमती और गैऱबासमती सहित) की फसल की अभी कटाई की जानी है तथा ऐसे मौके पर बरसात निश्चित तौर पर उपज को प्रभावित करेगी।

इस साल पंजाब में 27.50 लाख हेक्टेयर जमीन धान फसल के दायरे में है तथा प्रदेश 165 लाख टन धान उत्पादन का लक्ष्य लेकर चल रहा है। प्रदेश में धान का उठान एक अक्टूबर को शुरू हुआ और कुल फसल का करीब 50 फीसदी भाग खरीद के लिए प्रदेश के खाद्यान्न बाजार में पहुंचा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बेमौसम बरसात से धान की खड़ी फसल को नुकसान