DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

त्योहार के बहाने रिश्तों को रिचार्ज करें

उत्सव के इस मौके पर क्यों न सालों पुराने दोस्तों या फिर रिश्तेदारों से रिश्ते की नई शुरुआत की जाए। तो फिर देर किस बात की है वहां पहुंच कर सबको सरप्राइज कर दीजिए

यदि हम कैलेंडर पर नजर डालें तो रिश्तों से जुड़े कई सारे नामों के साथ दिखाई देंगे। दोस्ती से लेकर प्रेम, माता-पिता से लेकर भाई-बहन के रिश्तों को जोड़ते यह दिन दरअसल रिश्तों को रिचार्ज करने के लिए ही बनाए गए हैं। और जैसे-जैसे हम व्यस्त होते जा रहे हैं हम सारी जिंदगी में यह सारे खास दिन एक महोत्सव की तरह तब्दील होते जा रहे हैं। त्योहार के बहाने ही हम अपने रिश्तेदारों और भूले-बिसरे दोस्तों से मिल पाते हैं क्यों न इस बार भी उत्सव के इस मौक पर अपने रिश्तों की डोर को और मजबूत बनाएं।

घर जोड़ता है रिश्तों से

इन सब दिन-दिवस के बावजूद हमें अपने रिश्तों की याद सबसे ज्यादा तीज-त्योहार में ही आती है और यही वह मौका है जब हम अपने रिश्तों को रिचार्ज कर सकते हैं। घर से बाहर रहकर नौकरी करने या पढ़ने वाले लोग अक्सर त्योहार के दिन न जा पाने के कारण मायूस हो जाते हैं। यह घर ही है जो हमको संस्कृति से जोड़ता है, रिश्तों से जोड़ता है। कभी-कभी अपनों के साथ रिश्तों में खटास आ जाती है। ऐसा नहीं है कि हम उनके साथ की कमी को महसूस नहीं करते हैं पर परस्पर इगो हमको पास नहीं आने देती।

क्या माफ करना आसान है?

माफी को लेकर कई सारे सवाल हमारे जेहन में उठते हैं पहला पहल कौन करेगा? दूसरा क्या माफ करना आसान है? तीसरा इसके बावजूद क्या गारंटी की वह अब ऐसा नहीं करेंगे? यह सवाल हमको इतना कसे रहते हैं कि हम मुक्त नहीं हो पाते। एक बार अपनी समस्या के अंतर्गत एक व्यक्ति ने अपनी समस्या कुछ यूं बयान की।

मेरा प्रेम विवाह है। इस वजह से मेरे पिता ने मुझको घर से निकाल दिया। यह आज से करीब 10 साल पुरानी बात है। 10 साल से मेरा अपने माता-पिता के साथ कोई संवाद नहीं है। उन्होंने हमारी कोई सुध नहीं ली। सारे रिश्तेदारों से कहा कि मैं उनके लिए मर गया। इसके बावजूद मुझे अपने पापा की बहुत याद आती है क्योंकि वह मुझसे बहुत प्यार करते थे। मेरे बच्चे मुझसे अपने दादा-दादी के बारे में पूछते हैं कई सवाल करते हैं। मेरी पत्नी का कहना है कि हमें वहां जाना चाहिए और बच्चों को उनके दादा-दादी से मिलवाना चाहिए। पर मेरे मन में सवाल है कि अगर उन्होंने फिर बुरा बर्ताव किया। मेरी पत्नी से कुछ कहा या फिर मेरे बच्चों से, मैं बर्दाश्त नहीं कर पाऊंगा। बताएं क्या करूं? सलाहकार ने सिर्फ दो लाइन का जवाब दिया-अपने माता-पिता को माफ कर दीजिए और वापस लौट जाइए। आपके सारे सवाल खत्म हो जाएंगे। यह सच है कि रिश्तों को बनाए रखने के लिए उसकी कड़वाहट को भी भूलना होता है क्योंकि रिश्ते एक वृक्ष की शाखा की तरह हैं जो कहीं-न-कहीं जड़ों से जुड़े हैं।

एक फूल बदल देता है जिंदगी

फूल चाहे भगवान को चढ़ाया जाए या फिर भेंट किया जाए जीवन में सकारात्मक बदलाव लाता है। इसीलिए कोरियर सेवा के जरिए भी अपने प्रियजनों को फूल भेजे जा सकते हैं। और रिश्तों को महकाया जा सकता है। त्योहार में रिश्तों को रिचार्ज करने के लिए अब कई सारे विकल्प हैं। जो सबसे ज्यादा प्रचलित हैं वह है एसएमएस। एसएमएस के जरिए लोग अपनी भावनाओं को व्यक्त करते हैं। इमेल के जरिए भी हम अपनी भावनाओं के साथ फोटो भी भेज सकते हैं। यह फोटो सेलिब्रेशन की भी हो सकती है और किसी अन्य आयोजन के भी। सभी तरह की फोटो अलग-अलग किस्म का जुड़ाव पैदा करती है। फेसबुक अपनी भावनाओं को व्यक्त करने का सबसे सशक्त माध्यम है जहां सभी को एक साथ जोड़कर आप अपना मैसेज भेज सकते हैं। फोटो एलबम शेयर कर सकते हैं। कोरियर सेवा का लाभ उठाते हुए आप कोई उपहार भी भेज सकते हैं।

त्योहार साथ-साथ मनाएं

यदि आप बहुत समय से अपने घर नहीं गए हैं तो त्योहार में जाएं और अपने भाई-बहन से भी वहीं पहुंचने को कहें। जब सभी लोग साथ में मिलकर त्योहार मनाएंगे तो नजदीकी बढ़ेंगी और प्यार भी। आप और आपके बच्चे भी रिश्तों को समझोंगे।

घर से बाहर भी निकलें

यहां आसपास में कोई-न-कोई आपका दोस्त अभी भी जरूर रहता होगा। अगर वह नहीं भी है तो उस घर में कोई तो होगा जिसे आप जानते होंगे। देर मत कीजिए और वहां पहुंचकर सबको सरप्राइज दीजिए। इस खुशी को न आप भूलेंगे और न आपके बच्चे। सिर्फ रिश्ते-नाते या आपके दोस्त ही नहीं इस खुशी में आपके घर में काम करने वाली आपकी बाई भी हो सकती है। आप जाकर उसे कोई तोहफा देंगे तो एक बार उसके चेहरे को देखिएगा। उसकी असीस आपके काम आएगी।

सरप्राइज पार्टी दीजिए

इस पार्टी में अपने सभी भाई-बहन और दोस्तों को शामिल कीजिए। यह पार्टी क्रिसमस या न्यू ईयर पर करें और नए साल का स्वागत अपनों के साथ करें।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:त्योहार के बहाने रिश्तों को रिचार्ज करें