DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारी मन से व्हाइट हाउस से रुखसत हुए बुश

अमेरिका के राष्ट्रपति के रूप में आठ साल तक गुजारने के बाद सेवानिवृत्त हुए जॉर्ज डब्ल्यू बुश व्हाइट हाउस से सादगीपूर्ण ढंग से रूखसत होकर टेक्सास प्रांत में क्राफोर्ड स्थित अपने पैतृक निवास चले गए। आेबामा के सत्तारोहण समारोह के बाद बुश अपनी पत्नी लौरा बुश के साथ एक हेलीकॉप्टर से एण्डत्त्यूज एयर बेस को हुए जहां से अमेरिकी वायुसेना का एक विशेष विमान उन्हें लेकर उनके गृहप्रांत टेक्सास रवाना हुआ। यह विमान राष्ट्रपति का विशेष विमान ही था, परंतु इसे इस उड़ान के लिए एयरफोर्स वन नहीं कहा गया क्योंकि बुश तब इसमें राष्ट्रपति के रूप में नहीं बल्कि साधारण नागरिक के रूप में सवार थे। बुश दंपत्ति अपने गृहनगर मिडलैंड में उतरे जहां उनके सम्मान में एक संक्षिप्त स्वागत रैली आयोजित की गई थी। बुश ने कहा कि राष्ट्रपति के रूप में उनका अनुभव शानदार रहा और उतना ही महान भी लेकिन टेक्सास में सूर्यास्त के अनुभव का कोई मुकाबला नहीं। मुझे घर आ कर अच्छा लगा। इसके बाद वह क्राफोर्ड स्थित अपने पारिवारिक फार्म हाउस को रवाना हो गए जहां वह अपना बाकी जीवन बिताएंगे। बुश ने मंगलवार को अपने दिन की शुरुआत व्हाइट हाउस के ग्राउंड पर चक्कर लगाने के बाद आेवेल ऑफिस में टेलीफोन पर अपने मित्रों और सहयोगियों से बातचीत के साथ की। बाद में बुश ने व्हाइट हाउस की सीढ़ियों पर आेबामा का स्वागत ‘सर’ के संबोधन के साथ किया। इसके बाद प्रथम महिला मिशेल आेबामा ने लौरा बुश को लाल रिबन से पैक एक उपहार बाक्स भेंट किया। फिर वे कॉफी पीने के लिए नार्थ पोर्टिको के अंदर दाखिल हुए। बुश की रूखसती के समय उनके तमाम विवादास्पद फैसलों से उनकी लोकप्रियता का ग्राफ जमीन पर आ गया था। जब वह व्हाइट हाउस से निकले तो बाहर मौजूद भीड़ ने उनपर काफी छींटाकशी भी की। खेल के मैदान पर पराजित टीम के लिए ताने कसने के लिए दर्शकों द्वारा की जाने वाली टिप्पणी ना-ना-ना, हे-हे-हे व गुड बाय की अवांछित गूंज ने उनके मन को कसैला बना दिया। शपथ ग्रहण समारोह के पहले भी नेशनल मॉल में जमा 20 लाख लोगों की भीड़ में यहां वहां ‘बुश को गिरफ्तार करो’ और ‘बुश अब और नहीं’ के नारे सुनाई दे रहे थे। लेकिन नए राष्ट्रपति ने शपथ के तुरंत बाद राष्ट्र के नाम प्रथम संबोधन में बुश की तारीफ की। आेबामा ने अमेरिका को उनकी सेवाआें और सत्ता हस्तांतरण के दौरान उनके सहयोग के लिए धन्यवाद दिया। हालांकि उन्होंने बुश की सर्वाधिक विवादास्पद आंतरिक सुरक्षा नीतियों की आलोचना से भी गुरेज नहीं किया लेकिन वह आलोचना नीतियों तक सीमित रही। सेवानिवृत्ति के बाद बुश की योजना डलास में एक राष्ट्रपति पुस्तकालय और एक जननीति केन्द्र ‘फ्रीडम इंस्टीटय़ूट’ खोलने की है जिसके माध्यम से शायद वह अपने राष्ट्रपति पद के कार्यकाल के दौरान अपनाई गईं नीतियों की वकालत करेंगें। बुश की योजना एक पुस्तक लिखने की भी है। उन्होंने कहा कि वह चाहते हैं कि लोग जान पाएं कि कठिन फैसले करते समय उनके सामने क्या परिस्थितियां थी और उन्हें वे निर्णय क्यों लेने पड़े।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: भारी मन से व्हाइट हाउस से रुखसत हुए बुश