DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विधानसभा चुनाव: दोनों प्रमुख गठबंधनों के बीच बराबरी का टक्कर

बिहार विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण में रविवार को 45 सीटों के लिए मतदान होना है। दूसरे चरण में राज्य के दोनों प्रमुख गठबंधनों में बराबरी की लड़ाई दिख रही है। दोनों गठबंधनों के लिए अपने कब्जे की सीट बचाना मुख्य चुनौती माना जा रहा है।

इस चरण की 45 में से 44 सीटों पर पिछले विधानसभा के दौरान मतदान हुआ था। राष्ट्रीय जनता दल (राजद) और लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) गठबंधन के कब्जे में जहां 21 सीटें हैं वहीं जनता दल (युनाइटेड) और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) गठबंधन को 17 सीटों पर जीत मिली थी। परिसीमन के बाद दरभंगा जिले के एक विधानसभा क्षेत्र में वृद्घि हुई है।

अक्टूबर 2005 में हुए विधानसभा चुनाव में राजद को सबसे अधिक सीट इसी क्षेत्र में मिली थी। राजद के 56 विधायकों में से 17 विधायक इसी क्षेत्र से चुनकर विधानसभा पहुंचे थे। इसलिए राजद इन क्षेत्रों में अपनी पकड़ बनाए रखने के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगाए हुए है। लोजपा को भी इन क्षेत्रों से चार सीटें पिछले चुनाव में मिली थी।

इधर, भाजपा और जद (यू) भी अपनी सीटें बढ़ाने के लिए कोई कोर-कसर बाकी नहीं रखना चाहती। ऐसे में कांग्रेस की उपस्थिति दोनों दलों के लिए परेशानी का सबब बन सकती है। समस्तीपुर जिले की सिंघिया विधानसभा क्षेत्र कांग्रेस के कब्जे में है। कांग्रेस के उम्मीदवार सभी सीटों से चुनाव लड़ रहे हैं।

आंकड़ों पर गौर किया जाए तो मुजफ्फरपुर के जिन 11 सीटों पर दूसरे चरण में मतदान होना है उसमें सबसे ज्यादा जद (यू) के पास छह सीटों पर कब्जा है जबकि राजद का तीन और भाजपा का एक सीट पर कब्जा है।

इसी तरह समस्तीपुर जिले की 10 सीटों में से राजद के कब्जे में छह हैं तो लोजपा, कांग्रेस और जद (यू) के पास एक-एक सीटें हैं। सीतामढ़ी और शिवहर जिले की कुल नौ सीटों में से राजद के पास चार और लोजपा के पास एक सीट है तो भाजपा और जद (यू) के पास दो-दो सीटें हैं।

दरभंगा जिले में राजद का छह सीटों पर कब्जा है जबकि पिछले चुनाव में जद (यू) का यहां से खाता भी नहीं खुला था। पिछले चुनाव में भाजपा को दो ओर लोजपा को एक-एक सीटें यहां से मिली थी। दरभंगा जिले में कुल नौ सीटें थी जो अब बढ़कर 10 हो गई हैं।

इसी तरह पूर्वी चंपारण जिले के जिन पांच विधानसभा क्षेत्रों में दूसरे चरण में चुनाव होना है वहां सुगौली, रक्सौल, ढाका और मधुबन पर भाजपा का कब्जा है वहीं आदापुर विधानसभा क्षेत्र पर जद (यू) के प्रत्याशी पिछले चुनाव में विजयी हुए थे।

बिहार विधानसभा की 243 सीटों के लिए छह चरणों में चुनाव होने हैं। 21 अक्टूबर को पहले चरण के तहत 47 सीटों पर मतदान कराया गया। 45 सीटों की मतगणना 24 नवम्बर को होगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:विधानसभा चुनाव: दोनों प्रमुख गठबंधनों के बीच बराबरी का टक्कर