DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुठभेड़ में हवलदार शहीद

रायडीह के ऊंचडीह-रघुनाथपुर के समीप बुधवार को अपराह्न भाकपा माओवादियों और पुलिस के जवानों के बीच हुई मुठभेड़ के बाद लापता हवलदार फलेंद्र मिश्र का शव करीब 20 घंटे बाद रघुनाथपुर गांव से सटे धान की खेत से बरामद किया गया। शहीद हवलदार बिहार के सीबियाडीह जनकपुर रोड के पुपरी गांव (सीतामढ़ी) का निवासी था।

नक्सलियों ने हवलदार के सिर और दाहिने बांह में गोली  मारी। बाद में हवलदार की इंसास राइफल और करीब दो सौ गोली लूट ली। इधर सारी रात पहाड़ की तलहटियों में चले सर्च ऑपरेशन की कमान खुद पुलिस कप्तान एनके सिंह ने संभाल रखी थी।

पुलिस हेडक्वार्टर के वरीय अधिकारी एसपी से ऑपरेशन की जानकारी ले रहे थे। हवलदार की शहादत की खबर मिलने के बाद सेना के हेलीकॉप्टर से डीजी नेयाज अहमद, जोनल आईजी रेजी डुंगडुंग, डीआईजी संपत मीणा, आईजी ऑपरेशन आरके मल्लिक, आईजी सीआरपीएफ आलोक राज, एडीजे डीके पांडेय, डीआईजी पीके शर्मा पहुंचे और शहीद हवलदार को श्रद्धा सुमन अर्पित किया। शहीद हवलदार अपने पीछे पत्नी सहित एक इंजीनियर बेटा और एक कुंवारी बेटी छोड़ गया है।

इधर सारी रात परसा, रघुनाथपुर, ऊंचडीह और आसपास के गांवों में अपने भटके साथी हवलदार फलेंद्र की ढूंढ़ने के लिए  सैकड़ों की संख्या में जगुआर, जिला बल, जैप, सीआरपीएफ के जवान और कई दजर्न पुलिस पदाधिकारी परेशान रहे। गुरुवार को जैसे ही धान की खेत में हवलदार का शव दिखाई दिया,जवानों और अधिकारियों के चेहरे पर मायूसी छा गई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मुठभेड़ में हवलदार शहीद