DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सबकी सुनी सीएम ने, बुर फंसे चंद्रमोहन

किसी भी मुख्यमंत्री के रात्रि विश्राम का गवाह बना यह गांव पिछले कई दिनों से सुर्खियों में रहने के बाद सामान्य हो गया है। सोमवार की रात मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अपने काफिले के साथ आए तो यहां मेला का दृश्य था। देर रात तक पूरा गांव जगा रहा। गोद में बच्चे को लिए महिलाएं चकाचौंध को निहार रही थीं तो नौजवानों की आंखों में उम्मीद की किरणें भी थीं। खास बात यह रही कि मुख्यमंत्री की यात्रा के बहाने गांव के लोगों को अतिथि सत्कार का भी मौका मिला। सबके दालान मेहमानों से पटे थे। गांव के रिश्तेदारों ने भी इस मौके को त्योहार की तरह मनाया।ड्ढr ड्ढr इस गांव में कोई सरकारी गेस्ट हाऊस नहीं है। मुख्यमंत्री का काफिला टेंट में ठहरा तो कई सरकारी मुलाजिमों ने भी गांववाले के दरवाजे का ही रुख किया। मीडिया के लोगों के लिए ठहरने का इंतजाम भी गांववालों ने ही किया। लक्ष्मीपुर के मिथिलेश उपाध्याय के यहां एक दर्जन से अधिक पत्रकार ठहर थे तो लोजपा के नेता वृजेश्वर राव के घर पर भी पत्रकारों को आसरा मिला। पतिलार के मौजे टोला के अखिलेश पांडेय ने तो मेहमानों के लिए टेंट लगा दिया था। उनके यहां ढाई सौ लोग ठहर थे। दूसरी ओर पूर्व स्वास्थ्य मंत्री चंद्रमोहन राय मंगलवार को यहां आयोजित जनता के दरबार में बुर फंसे। वह आम जनता की तरह आकर एक गैलरी में अकेले बैठे थे। शूरू में कुछ कार्यकर्ताओं ने उनका हाल पूछा। मगर मुख्यमंत्री के आने के बाद ही उनके लिए बुरा वक्त आ गया। मुख्यमंत्री जनता के बीच जा रहे थे। श्री राय ने भी उनका अनुसरण किया। जनता ने हो-हो करके उनका अभिवादन किया। इस गति को देखकर वे तेजी से भागे। आपाधापी में उनकी शॉल गिर गई। दूसरी बार उन्हें उस समय इसी दृश्य से पाला पड़ा जब मुख्यमंत्री उनका परिचय करा रहे थे। श्री राय जनता का अभिवादन करने के लिए खड़े हुए और हूट होकर बैठ गए। दरअसल, लोगों की नाराजगी इस बात को लेकर थी कि स्वास्थ्य मंत्री रहने के दौरान उन्होंने पतिलार के सरकारी अस्पताल में सुधार नहीं किया। इस गांव के पुराने अस्पताल की हालत आज भी जर्जर है।ड्ढr ड्ढr दूसरी ओर पतिलार की धरती पर कल्पना हकीकत में बदल गई। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पीछे सुरक्षाबल और अधिकारी। जनता के एकदम नजदीक। आंगनबाड़ी की शिकायत के एक मामले में तुरंत एफआईआर करने का आदेश दिया। जोगिया के महेश भगत थारू ने आवेदन देकर बताया कि वह कैंसर से पीड़ित है। इस पर स्वास्थ्य विभाग के निदेशक को मदद उपलब्ध कराने का आदेश दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सबकी सुनी सीएम ने, बुर फंसे चंद्रमोहन