DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गलतियों से सबक लेकर जीतेंगे गोवा वनडे : क्लार्क

गलतियों से सबक लेकर जीतेंगे गोवा वनडे : क्लार्क

ऑस्ट्रेलियाई कप्तान माइकल क्लार्क ने विशाखापट्टन में भारत के खिलाफ दूसरा अंतरराष्ट्रीय वनडे मैच पांच विकेट से हारने के बावजूद भरोसा जताया है कि उनकी टीम गलतियों से सबक लेते हुए गोवा में होने वाला तीसरा और आखिरी वनडे ज़रूर जीतेगी।
 
भारत के खिलाफ दूसरे वनडे में नाबाद 111 की शानदार पारी खेलने वाले क्लार्क ने कहा कि हमारी टीम को हार से निराशा ज़रूर हुई है लेकिन हम इस हार से सबक लेंगे और अपनी गलतियों को न दोहराते हुए 24 अक्टूबर को गोवा में होने वाले आखिरी वनडे में जीत का परचम लहराएंगे।
 
क्लार्क के अंतरराष्ट्रीय वन डे में पदार्पण करने वाले अपनी टीम के दो खिलाड़ियों ऑल राउंडर जॉन हेस्टिंग्स और तेज़ गेंदबाज़ मिशेल स्टार्क की प्रशंसा करते हुए कहा कि दोनों ने अच्छी शुरूआत की है। उन्होंने कहा कि हेस्टिंग्स ने दो विकेट लेकर बढ़िया खेल दिखाया।
 
क्लार्क ने कहा कि हमें लगा था कि प्रतिद्वंद्वी टीम के सामने 290 का लक्ष्य रख कर हम मज़बूत स्थिति में हैं। लेकिन शायद मैच के दूसरे हाफ में विकेट में तेज़ी आ गई जिसके कारण बल्लेबाजी करना आसान हो गया।
उन्होंने कहा कि खेल की शुरूआत में बल्लेबाजी में काफी दिक्कत पेश आ रही थी और शायद इसी वजह से हम हार गए। पहले 15 ओवर में हमने 50 रन बनाए थे जबकि भारत ने 80 रन बना लिए थे। हम गोवा वनडे में इससे सबक लेंगे।
 
यह पूछे जाने पर कि भारत को 290 रन बनाने से रोकने के लिए उनकी टीम के गेंदबाजों को क्या और बेहतर गेंदबाजी करनी चाहिए थी। उन्होंने कहा कि पूरी टीम को ही थोड़ा और बेहतर खेलना चाहिए था ताकि हम जीत हासिल कर सकते। हमारी टीम का क्षेत्ररक्षण थोड़ा कमज़ोर रहा लेकिन हम गोवा वनडे में इस और पूरा ध्यान देंगे।

क्लार्क ने कहा कि भारतीय खिलाड़ियों ने शानदार प्रदर्शन किया। मुझे लगता है कि मैच की शुरूआत में हमें बल्लेबाजी में दिक्कत हुई लेकिन बाद में विकेट में तेज़ी आ गई और भारतीय बल्लेबाजों को इसी का फायदा मिला क्योंकि दूसरे हाफ में बल्ले से रन बनाना आसान था।
 
उन्होंने कहा कि लेकिन हम कोई बहाना नहीं बना सकते क्योंकि ओस के बावजूद हमारे गेंदबाजों को गेंद पर पकड़ बनाने में कोई दिक्कत नहीं हो रही थी। भारतीय खिलाड़ियों ने शानदार खेल दिखाकर जीत हासिल की।
विशाखापट्टनम वनडे में उनकी शानदार शतकीय पारी के बारे में पूछे जाने पर क्लार्क ने कहा कि उनकी नाबाद 111 रनों की पारी से उन्हें अपने फॉर्म में वापस लौटने में मदद मिलेगी।
 
उन्होंने कहा कि मैं टेस्ट सीरीज़ में अच्छा प्रदर्शन नहीं कर सका था लेकिन इस बार मैंने शानदार स्कोर खड़ा करने की पूरी कोशिश थी। शुरूआत में रन बनाना मुश्किल था लेकिन मुझे पता था कि मुझे जल्दी आउट नहीं होना है और डटे रहना है क्योंकि अगर हमारे हाथ में विकेट हैं तो हम आखिरी दस ओवर में ज्यादा से ज्यादा रन बनाकर अच्छा स्कोर खड़ा कर सकते हैं। क्लार्क ने कैमरून व्हाइट की 49 गेंदों में 89 रनों की शानदार पारी की तारीफ की। उन्होंने कहा कि यह पारी सर्वश्रेष्ठ पारियों में से एक थी लेकिन दुर्भाग्यवश उनकी टीम बड़ा स्कोर खड़ा करने के बावजूद मैच हार गई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गलतियों से सबक लेकर जीतेंगे गोवा वनडे : क्लार्क