अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पहाड़ों की सैर करें माउंटेन बाइकिंग से

पहाड़ों की सैर करें माउंटेन बाइकिंग से

साहसिक खेलों के दीवानों के लिए शिमला इन दिनों खास जगह बन गई है। कल यानी 23 अक्तूबर से यहां माउंटेन बाइकिंग जो शुरू हो रही है। 30 अक्तूबर तक चलने वाली इस साइकिल रेस को शिमला के आसपास की घाटी में जगह-जगह देखने का अवसर उपलब्ध कराया जा रहा है। हिमालयन एडवेंचर स्पोर्ट्स एंड टूरिज्म प्रमोशन एसोसिएशन (शिमला) द्वारा आयोजित होने वाली इस रेस के रूट संजोली, मशोबरा, फागू, सैंज, नारकंडा, सिद्घपुर, तन्नी जुबेर पर हर साल जगह-जगह पर्यटकों की भीड़ देखते ही बनती है।

इस बार ये रेस 500 किलोमीटर की होगी। शिमला से प्रारम्भ होकर कुल्लू घाटी में जालोरी पास (ऊंचाई 12000 फुट) होते हुए वापस शिमला तक यह रेस आठ दिनों में पूरी होगी। इतनी लम्बी रेस का आयोजन यहां पहली बार हो रहा है। इस रेस में 70 से भी अधिक प्रतियोगी हिस्सा लेने जा रहे हैं। चलाते-चलाते रास्ता अवरुद्घ मिलने पर साइकिल से उतर कर हाइकिंग द्वारा भी रास्ता पार करना पड़ता है। हर पड़ाव पर रात्रि विश्रम के पश्चात अगली सुबह 7 बजे ब्रेक फास्ट के बाद ही रेस फिर शुरू हो जाएगी। रास्ते में पैक लंच की व्यवस्था के अलावा ड्राई फ्रूट, चॉकलेट, एनर्जी ड्रिंक की भी व्यवस्था की गयी है।

हिमाचल टूरिज्म एवं मशहूर साइकिल निर्माता कम्पनी बीएसए के सौजन्य से प्रायोजित इस रेस के हर पड़ाव पर ठहरने की व्यवस्था टैंटों में की जा रही है। कैम्प साइट पर गर्म पानी की व्यवस्था जहां आपकी थकान मिटा देगी, वहीं सर्विस बैक-अप के रूप में आपके कैमरा, मोबाइल आदि की बैटरी चार्ज की सुविधा भी होगी। रेस के प्रारम्भ में ही मैप के साथ-साथ रोड बुक भी उपलब्ध करा दी जाएगी, ताकि रास्ता न भटक जाएं। इस रेस को सुचारू एवं सुव्यवस्थित रूप से सम्पन्न कराने में एक आपातकालीन टीम, सर्विस टीम, प्रोफेशनल टीम तथा मेडिकल सुविधाओं से युक्त वैन रेस के साथ-साथ पीछे-पीछे चलेगी। आकस्मिक दुर्घटना की स्थिति में राज्य सरकार द्वारा हेलीकॉप्टर की सुविधा भी उपलब्ध करायी जा रही है। 

जो पर्यटक 8 दिन के लिए समय नहीं निकाल पा रहे हैं या केवल इस गतिविधि से रूबरू होना चाहते हैं, उनके लिए दो दिनों की ईको राइड का आयोजन भी किया जा रहा है। मुख्य टीम के साथ ही पहले दो दिन की राइड में शिमला से संजोली, मशोबरा, फागू होते हुए सैंज तक तथा दूसरे दिन सैंज से नारकंडा होते हुए सिद्घपुर, तन्नी जुबेर तक की 120 किलोमीटर की माउंटेन बाइकिंग का अनुभव ले सकते हैं। रेस का शुभारम्भ 23 अक्तूबर 2010 को गणमान्य व्यक्तियों द्वारा हरी झंडी दिखाकर किया जाएगा। दर्शक के रूप में रेस के रास्ते में प्रतिभागियों का उत्साह बढ़ाना भी कम आनन्ददायक अनुभव नहीं होता। आप यह आनन्द भी प्राप्त कर सकते हैं।

कैसे पहुंचें : निकटतम हवाई अड्डा जुब्बरहट्टी 23 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

रेल मार्ग : कालका से 96 किलोमीटर की दूरी पर है और छोटी लाइन से जुड़ा हुआ है। 

सड़क मार्ग : दिल्ली से 370 किलोमीटर और चंडीगढ से 119 किलोमीटर की दूरी पर स्थित शिमला के लिए बस परिवहन की अच्छी व्यवस्था है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पहाड़ों की सैर करें माउंटेन बाइकिंग से