DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

म्यांमार पर विश्व समुदाय ने आंखे मूंदी: अमर्त्य सेन

म्यांमार पर विश्व समुदाय ने आंखे मूंदी: अमर्त्य सेन

नोबेल पुरस्कार विजेता अर्थशास्त्री अमर्त्य सेन ने म्यांमार में होने वाले चुनाव की गहन वैश्विक जांच की अपील करते हुए चेतावनी दी है कि इन चुनावों से वहां लोकतंत्र के प्रयासों को गहरा झटका लगेगा।

अपने बचपन का कुछ समय म्यांमार में बिताने वाले सेन ने कहा कि म्यांमार में होने जा रहे चुनावों की ओर विश्व समुदाय का ध्यान नहीं है और वह इसकी आलोचना करते हैं। उन्होंने भारत की म्यांमार नीति की भी आलोचना की।

म्यांमार की सैन्य सरकार करीब 20 वर्षों के बाद सात नवंबर को पहली बार चुनाव कराने जा रही है। लेकिन उसने लोकतंत्र समर्थक नेता आंग सान सूकी को नजरबंदी से रिहा नहीं किया है। इन चुनावों के लिए विदेशी पर्यवेक्षकों और मीडिया पर भी जुंटा सरकार ने प्रतिबंध लगा रखा है।

हार्वर्ड विश्वविद्यालय के प्रोफेसर सेन ने बुधवार को कहा कि कथित चुनाव करीब आ रहे हैं और इनकी असलियत के बारे में वैश्विक स्तर पर चर्चा किये जाने से महत्वपूर्ण और कोई बात नहीं है।

जॉन होपकिन्स विश्वविद्यालय में दिये अपने व्याख्यान में सेन ने कहा कि म्यांमार में जो कुछ हो रहा है, उसके बाद यह उम्मीद करना बिल्कुल विरोधाभासी होगा कि वहां बदलाव हो सकता है।

सेन ने सैन्य जुंटा द्वारा मानवता के खिलाफ किए गये कथित अपराधों की जांच तत्काल संयुक्त राष्ट्र से कराये जाने का आह्वान किया। सैन्य जुंटा पर हजारों गांवों को नष्ट करने और मूलनिवासी अल्पसंख्यक महिलाओं के खिलाफ बलात्कार को एक हथियार के रूप में इस्तेमाल करने का आरोप है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:म्यांमार पर विश्व समुदाय ने आंखे मूंदी: अमर्त्य सेन