अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

47 सीटों के लिए मतदान, बढ़ने लगी लाइनें

47 सीटों के लिए मतदान, बढ़ने लगी लाइनें

बिहार विधानसभा चुनाव के प्रथम चरण के अंतर्गत 47 सीटों पर, नेपाल और पश्चिम बंगाल की सीमाओं को सील किए जाने के साथ ही कड़ी सुरक्षा के बीच गुरुवार सुबह सात बजे मतदान शुरू हो गया।

बिहार विधानसभा चुनाव के प्रथम चरण के अंतर्गत नेपाल तथा पश्चिम बंगाल से सटे, राज्य के जिन 47 विधानसभा क्षेत्रों में गुरुवार को मतदान हो रहा है उनमें हरलाखी, बेनीपट्टी, खजौली, बाबूबरही, बिस्फी, मधुबनी, राजनगर (एससी), झंझारपुर, फुलपरास, लौकहा, निर्मली, पिपरा, सुपौल, त्रिवेणीगंज (अजा), छातापुर, नरपतगंज, रानीगंज (अजा), फारबिसगंज, अररिया, जोकिहाट, सिकटी, बहादुरगंज और ठाकुरगंज शामिल हैं।

इसके अतिरिक्त जिन अन्य विधानसभा क्षेत्रों में मतदान जारी है उनमें किशनगंज, कोचाधामन, अमौर, बायसी, कसबा, बनमनखी (अजा), रूपौली, धमदाहा, पूर्णिया, कटिहार, कदवा, बलरामपुर, प्राणपुर, मनिहारी (अजजा), बरारी, कोढ़ा (अजजा), आलमनगर, बिहारीगंज, सिंघेश्वर (अजजा), मधेपुरा, सोनबरसा (अजजा), सहरसा, सिमरीबख्तियारपुर तथा मेहसी भी शामिल हैं।

राज्य के पुलिस महानिदेशक नीलमणि ने मतदान शांतिपूर्ण और निष्पक्ष तरीके से होने का विश्वास जताते हुए अभूतपूर्व सुरक्षा व्यवस्था होने का दावा किया।

नीलमणि ने बताया कि शांतिपूर्ण और निष्पक्ष तरीके से मतदान संपन्न कराए जाने के लिए कुल 10,686 मतदान केंद्रो में से करीब 85 प्रतिशत मतदान केंद्रों पर अर्धसैनिक बल तैनात किए गए हैं। सभी मतदान केंद्रो पर सशस्त्र बल तैनात हैं। हेलिकॉप्टर के जरिए चुनाव प्रक्रिया पर सतत नजर रखी जाएगी जिसमें विशेष कार्यबल के जवान तैनात रहेंगे। उन्होंने बताया कि सशस्त्र बलों में बिहार सैन्य बल, जिला पुलिस बल और होमगार्ड के जवान भी शामिल हैं।

बिहार के पुलिस महानिदेशक नीलमणि ने बताया कि सुरक्षा के दृष्टिकोण से और शांतिपूर्ण एवं निष्पक्ष ढंग से मतदान संपन्न हो सके, इसके लिए पड़ोसी राज्य पश्चिम बंगाल और भारत-नेपाल अंतरराष्ट्रीय सीमा को सील कर वहां हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है।

उन्होंने मतदाताओं से निर्भीक होकर अपने मताधिकार का प्रयोग करने की अपील की और कहा कि पुख्ता सुरक्षा व्यवस्था की गयी है तथा मतदान के दौरान हिंसा या गड़बड़ी फैलाने वालों और मतदाताओं को उनके मताधिकार से रोकने वालों से सख्ती से निपटा जाएगा।

नीलमणि ने कहा कि ऐसे मामलों में गिरफ्तार किए गए लोगों को तीन से छह महीने के दौरान शीघ्र सुनवाई करवाने के बाद सजा दिलवाई जाएगी।

बिहार के मुख्य निर्वाचन अधिकारी सुधीर कुमार राकेश ने बताया कि बिहार के आठ जिलों मधुबनी, सुपौल, अररिया, किशनगंज, पूर्णिया, कटिहार, मधेपुरा और सहरसा के 47 विधानसभा क्षेत्रों में मतदान जारी है। इनमें से सिमरी बख्तियारपुर को छोड़कर बाकी अन्य विधानसभा क्षेत्रों में मतदान का समय सुबह सात से शाम पांच तक तय किया गया है। उन्होंने बताया कि सिमरी बख्तियारपुर विधानसभा क्षेत्र में मतदान का समय सुबह सात बजे से दोपहर तीन बजे तक निर्धारित है।

राकेश ने बताया कि आज एक करोड़ सात लाख 797 मतदाता कुल 631 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला करेंगे। इनमें 579 पुरुष एवं 52 महिला प्रत्याशी हैं। कुज 631 उम्मीदवारों में मान्यता प्राप्त राष्ट्रीय एवं राज्य स्तरीय राजनैतिक दलों के कुल 237 और पंजीकत राजनैतिक दलों के 156 उम्मीदवार तथा 238 निर्दलीय उम्मीदवार हैं। इन 47 विधानसभा क्षेत्रों में कांग्रेस ने सभी सीटों पर, बसपा ने 45, रांकपा ने 33, राजद ने 31, जदयू ने 26, भाजपा ने 21, लोजपा ने 16, भाकपा ने 11 और माकपा ने सात सीटों पर अपने उम्मीदवार खड़े किए हैं।

सुधीर कुमार राकेश ने बताया कि 47 विधानसभा क्षेत्रों में से कदवा विधानसभा क्षेत्र में सर्वाधिक 22 और सिंहेश्वर (अजजा) विधानसभा क्षेत्र में केवल सात उम्मीदवार चुनावी मैदान में हैं। सहरसा विधानसभा क्षेत्र में सर्वाधिक एक लाख पचास हजार 658 मतदाता और कोचाधामन में सबसे कम 94,410 मतदाता हैं।

उन्होंने कहा कि मतदाता, अपने मताधिकार के इस्तेमाल के लिए फोटो पहचान पत्र के अलावा चुनाव आयोग द्वारा निर्दिष्ट 14 अन्य वैकल्पिक दस्तावेजों का भी उपयोग कर सकते हैं।

राकेश ने बताया कि विकलांग मतदाताओं के लिए प्रत्येक मतदान केंद्रों पर रैम्प की तथा दृष्टिहीन मतदाताओं के लिए डमी बैलट शीट का इंतजाम किया गया है।

उन्होंने बताया कि प्रथम चरण के अंतर्गत 10,868 मतदान केंद्रो पर मतदान के लिए 44 हजार मतदान कर्मियों को लगाया गया है। पहली बार बिहार में मतदान केंद्रों पर लाईव वेब स्ट्रीमिंग की व्यवस्था की गयी है जिसके जरिए मतदान केंद्रों की गतिविधियों को जिला निर्वाचन पदाधिकारी, मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी और मुख्य निर्वाचन आयोग के अधिकारी सीधे देख सकेंगे।

राकेश ने बताया कि सभी जिलों में मतदाताओं की सुविधा के लिए हेल्पलाईन काल सेंटर की व्यवस्था किए जाने के साथ ही राज्य स्तर पर राजधानी पटना स्थित मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी के कार्यालय में भी एक नियंत्रण कक्ष स्थापित किया गया है जहां से मतदाता आवश्यक सूचना प्राप्त कर सकते हैं और अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं।

जिन प्रमुख उम्मीदवारों के भाग्य का आज फैसला होना है उनमें जदयू के मंत्री बिजेंद्र प्रसाद यादव, नरेंद्र नारायण यादव, रेणू कुमारी, हरि प्रसाद शाह, कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष महबूब अली कैसर, उनकी पाटी के दो अन्य उम्मीदवार पूर्व बाहुबली सांसद पप्पू यादव की पत्नी रंजीता रंजन और आनंद मोहन की पत्नी लवली आनंद शामिल हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:47 सीटों के लिए मतदान, बढ़ने लगी लाइनें