अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिहार चुनाव: 631 उम्मीदवारों की किस्मत हो जाएगी लॉक

बिहार चुनाव: 631 उम्मीदवारों की किस्मत हो जाएगी लॉक

बिहार विधानसभा चुनाव के पहले चरण में गुरुवार को प्रदेश के आठ जिलों के 47 विधानसभा क्षेत्रों के 10700797 मतदाता भारी सुरक्षा के बीच निर्दलीय सहित विभिन्न दलों के कुल 631 उम्मीदवारों का राजनीतिक भविष्य इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों में बंद कर देंगे।

पहले चरण के मतदान का अंतिम समय करीब आने के साथ ही राजनीतिक दलों ने दूसरे चरण में 24 अक्टूबर को 45 विधानसभा क्षेत्रों में होने वाले चुनाव के लिए प्रचार अभियान तेज कर दिया है। प्रथम चरण में होने वाले मतदान के लिए सुरक्षा के कड़े प्रबंध किए गए हैं। करीब 85 प्रतिशत मतदान केन्द्रों पर अर्धसैनिक बलों की तैनाती की गई है जबकि शेष मतदान केन्द्रों पर अन्य सशस्त्र बलों को तैनात किया गया है। सुरक्षा के मद्देनजर नेपाल और पश्चिम बंगाल की सीमाओं को बंद कर दिया गया है।

राज्य के पुलिस महानिदेशक नीलमणि ने बुधवार को बताया कि नेपाल से सटे राज्य की सभी सीमाओं को सील कर दिया गया है तथा सीमा पार कर मतदान में गड़बड़ी फैलाने के उद्देश्य से आने वाले असामाजिक तत्वों पर सीमा सुरक्षा बल तथा अर्धसैनिक बलों द्वारा पैनी निगाह रखी जा रही है। उन्होंने बताया कि नेपाल से सटे इलाकों में सुरक्षाकर्मी लगातार गश्त कर रहे हैं, जिसमें प्रशिक्षित कुत्तों की भी मदद ली जा रही है। उन्होंने कहा कि स्वतंत्र, निष्पक्ष और शांतिपूर्ण मतदान संपन्न कराने के लिए सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध किए गए हैं। 

उन्होंने कहा कि जिस मतदान केन्द्र पर जैसी आवश्यकता है वैसी व्यवस्था की जा रही है। उन्होंने कहा कि पर्याप्त संख्या में अर्धसैनिक बल उपलब्ध कराए गए हैं। इस बीच, पुलिस मुख्यालय के एक अधिकारी के मुताबिक राज्य में प्रथम चरण में होने वाले विधानसभा क्षेत्रों में अर्धसैनिक बल की 300 कंपनियां तैनात की गई है।

राज्य के प्रथम चरण में होने वाली सीटें मधुबनी, अररिया, सुपौल, किशनगंज, पूर्णिया, कटिहार, सहरसा और मधेपुरा जिला की हैं। इस बीच बुधवार को सभी प्रत्याशियों ने मतदाताओं को अपनी ओर आकर्षित करने का अंतिम प्रयास किया। लगभग सभी प्रत्याशी या उनके समर्थक बुधवार को जनसंपर्क अभियान के तहत घर-घर पहुंचे।

इस चरण में नीतीश सरकार के चार मंत्रियों सहित कई पूर्व मंत्री और सांसद चुनावी समर में हैं। सुपौल से भाग्य आजमा रहे मंत्री विजेन्द्र प्रसाद यादव ने सुबह से ही क्षेत्र में निकलकर अधिक-अधिक लोगों से मिलने की कोशिश की जबकि सिमरी बख्तियारपुर से कांग्रेस के प्रत्याशी एवं कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष महबूब अली कैसर ने खुद घर-घर जाकर मतदाताओं से कांग्रेस को वोट देने की अपील की जबकि उनके समर्थकों ने भी उनके लिए मतदाताओं से संपर्क साधा।

मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के टिकट पर पूर्णिया से चुनाव लड़ रहे अमित सरकार ने भी जनसंपर्क में अपनी पूरी ताकत झोंक दी। वह कहते हैं कि जनसंपर्क अभियान चलाया जा रहा है अंतिम फैसला तो गुरुवार को मतदाताओं को ही करना है।

झंझारपुर से जद (यु) के टिकट से चुनाव लड़ रहे पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्र के पुत्र नीतीश मिश्र कहते हैं कि सभी प्रत्याशियों के पास अपने-अपने एजेंडे हैं और उन्हें बताकर सभी प्रत्याशी मत मांग रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बिहार चुनाव: 631 उम्मीदवारों की किस्मत हो जाएगी लॉक