अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

क्लार्क के शतक पर भारी पड़ा कोहली का सैकड़ा

क्लार्क के शतक पर भारी पड़ा कोहली का सैकड़ा

विराट कोहली के धैर्यपूर्ण शतक और सुरेश रैना के आतिशी अर्धशतक की बदौलत भारत ने बुधवार को दूसरे वनडे मैच में आस्ट्रेलिया को पांच विकेट से हराकर तीन मैचों की सीरीज में 1-0 की अजेय बढ़त बना ली।

आस्ट्रेलिया ने कप्तान माइकल क्लार्क (नाबाद 111) के नाबाद शतक की मदद से तीन विकेट पर 289 रन बनाए थे जिसके जवाब में भारत ने कोहली (121 गेंद में 118 रन) के कैरियर की सर्वश्रेष्ठ पारी की मदद से 48.5 ओवर में पांच विकेट के नुकसान पर 292 रन बनाकर मैच जीत लिया।

कोहली ने शतक जड़ने के अलावा युवराज सिंह (58) के साथ तीसरे विकेट के लिए 137 जबकि रैना (नाबाद 71) के साथ चौथे विकेट के लिए 84 रन जोड़े। उन्होंने अपनी पारी में 11 चौके और एक छक्का मारा जबकि रैना ने 47 गेंद का सामना करते हुए नौ चौके और एक छक्का जड़ा। इससे पहले कोच्चि में 17 अक्टूबर को होने वाला सीरीज का पहला मैच बारिश की भेंट चढ़ गया था।

लक्ष्य का पीछा करने उतरे भारत की शुरुआत काफी खराब रही और उसने दूसरी ही गेंद पर शिखर धवन (0) का विकेट गंवा दिया जो क्लाइंट मैकाय की मूव होती गेंद पर बोल्ड हो गए। दूसरे सलामी बल्लेबाज मुरली विजय (15) भी अधिक देर तक विकेट पर नहीं टिक सके और मैकाय की गेंद से छेड़छाड़ के प्रयास में विकेटकीपर टिम पेन को कैच थमा बैठे।

कोहली और युवराज ने इसके बाद भारत को संकट से उबारा। युवराज ने जान हास्टिंग्स की गेंद पर चौके के साथ खाता खोला जबकि कोहली ने भी इस तेज गेंदबाज पर लगातार दो चौके जड़े। दोनों ने 20वें ओवर में टीम का स्कोर 100 रन तक पहुंचाया।
कोहली ने नाथन हारिटज की गेंद को लांग आन पर एक रन के लिए खेलकर 69 गेंद में अपना अर्धशतक पूरा किया जबकि युवराज ने जेम्स होप्स की गेंद को एक रन के लिए खेलकर 62 गेंद में यह उपलब्धि हासिल की। युवराज इसके बाद मैकाय की धीमी गेंद को पुल करने के प्रयास में चूककर बोल्ड हो गए। उन्होंने 87 गेंद की अपनी पारी में पांच चौके मारे।

कोहली और रैना ने इसके बाद भारत को जीत के करीब पहुंचाया। रैना ने होप्स की गेंद पर लगातार तीन चौके के साथ 38वें ओवर में टीम का स्कोर 200 रन के पार पहुंचाया।
 कोहली ने इसके बाद हास्टिंग्स की गेंद को स्वीपर कवर पर दो रन के लिए खेलकर 111 गेंद में नौ चौकों की मदद से अपना तीसरा शतक पूरा किया। उन्होंने मैकाय के 43वें ओवर में लगातार दो चौके और एक छक्का मारा। वह हालांकि अगली ही गेंद पर भाग्यशाली रहे जब प्वाइंट पर नाथन हारिटज ने उनका मुश्किल कैच छोड़ दिया।

कोहली हालांकि इस जीवनदान का फायदा नहीं उठा पाए और हास्टिंग्स के अगले ओवर में लांग आन पर बाउंड्री के समीप होप्स को कैच थमा बैठे। हास्टिंग्स ने इसी ओवर में भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (0) को भी बोल्ड करके मेजबान टीम को दोहरा झटका दिया। भारत को अंतिम छह ओवर में जीत के लिए 33 रन की दरकार थी। रैना ने इस बीच मैकाय की गेंद पर एक रन के साथ सिर्फ 37 गेंद में अपना अर्धशतक पूरा किया। रैना ने इसके बाद मैकाय पर चौके और हास्टिंग्स पर छक्के के साथ भारत की राह आसान की। सौरव तिवारी ने मिशेल स्टार्क पर लगातार दो चौके के साथ सात गेंद शेष रहते भारत को लक्ष्य तक पहुंचाया। वह 12 रन बनाकर नाबाद रहे।

इससे पहले क्लार्क के नाबाद शतक की मदद से आस्ट्रेलिया ने खराब शुरुआत से उबरते हुए तीन विकेट पर 289 रन बनाए।

क्लार्क ने 138 गेंद में नाबाद 111 रन की पारी खेलने के अलावा माइक हसी (69) के साथ तीसरे विकेट के लिए 144 जबकि कैमरून वाइट (नाबाद 89) के साथ चौथे विकेट के लिए नाबाद 129 रन की साझेदारी की जिससे आस्ट्रेलिया ने 16 रन पर दो विकेट गंवाने के बावजूद मजबूत स्कोर खड़ा किया। क्लार्क ने अपनी पारी में सात चौके और एक छक्का मारा जबकि वाइट ने केवल 49 गेंद का सामना करते हुए छह छक्के और इतने ही चौके मारे जिसकी बदौलत आस्ट्रेलिया ने अंतिम 10 ओवर में 114 रन बटोरे।

भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया जो सही साबित हुआ। आस्ट्रेलिया के सलामी बल्लेबाजों को भारतीय तेज गेंदबाजों की सटीक लाइन और लेंथ के सामने रन बनाने के लिए जूझना पड़ा।

बाएं हाथ के तेज गेंदबाज आशीष नेहरा ने आठवें ओवर तक दोनों सलामी बल्लेबाजों शान मार्श (0) और टिम पेन (9) को पवेलियन भेजकर आस्ट्रेलिया का स्कोर दो विकेट पर 16 रन किया। नेहरा ने सबसे पहले चौथे ओवर में मार्श को पवेलियन भेजा जो ऑफ साइड पर आ रही गेंद को अपने विकेटों पर खेल गए।

बाएं हाथ के इस तेज गेंदबाज ने इसके बाद पेन को आर विनय कुमार के हाथों कैच कराकर आस्ट्रेलिया को दूसरा झटका दिया। क्लार्क और हसी ने इसके बाद पारी को संभाला और रन गति में भी सुधार किया। हसी ने प्रभावी शुरुआत करते हुए प्रवीण कुमार पर चौका जड़ने के बाद अगले ओवर में विनय कुमार की गेंद को भी दो बार चार रन के लिए भेजा। इस जोड़ी ने 26वें ओवर में टीम का स्कोर 100 रन के पार पहुंचाया।

टेस्ट सीरीज में नाकाम रहे क्लार्क ने 29वें ओवर में सुरेश रैना की गेंद को कट करके चार रन के लिए भेजकर 76 गेंद में अपना अर्धशतक पूरा किया जबकि हसी ने अगले ओवर में युवराज सिंह की गेंद पर एक रन के साथ 62 गेंद में 50 रन का आंकड़ा छुआ। हसी इसके बाद आर अश्विन की सीधी गेंद को चूककर पगबाधा आउट हो गए। उन्होंने 78 गेंद की अपनी पारी में सात चौके जड़े।

क्लार्क ने इसके बाद वाइट के साथ मिलकर पारी को आगे बढ़ाया। आस्ट्रेलिया ने 43वें ओवर में बल्लेबाजी पावर प्ले लिया जिसमें टीम ने पांच ओवर में 49 रन जोड़े। इन दोनों ने 46वें ओवर में विनय कुमार को निशाना बनाया। वाइट ने विनय कुमार की गेंद पर सीधा छक्का जड़ा जबकि क्लार्क ने लगातार दो चौके के बाद मिडविकेट पर एक रन के साथ एकदिवसीय क्रिकेट में अपना पांचवां शतक पूरा किया।

अंतिम ओवरों में आस्ट्रेलियाई जोड़ी ने ताबड़तोड़ बल्लेबाजी की। वाइट ने 47वें ओवर में नेहरा की गेंद पर दो चौके के बाद अगले ओवर में प्रवीण की गेंदों पर दो छक्कों के साथ सिर्फ 38 गेंद में अपना अर्धशतक पूरा किया। क्लार्क ने भी अगले ओवर में नेहरा की गेंद को छह रन के लिए भेजा। वाइट ने अंतिम ओवर में विनय कुमार पर तीन छक्के और एक चौके सहित 23 रन जोड़े जिससे यह पारी का सबसे महंगा ओवर साबित हुआ।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:क्लार्क के शतक पर भारी पड़ा कोहली का सैकड़ा